October 22, 2017

हिमाचल हादसा: नहीं मिले 16 छात्रों के शव, देखें सर्च ऑपरेशन की तस्वीरें

dnnnnnnnnnकुल्लू, 13 जून – लारजी डैम के पानी से ब्यास की धार में खोए 24 इंजिनियरिंग छात्रों में से गुरुवार को दो और छात्रों के शव बरामद किए गए। अब तक कुल 8 छात्रों के शव बरामद किए जा चुके हैं जबकि 16 अभी भी लापता हैं। बचें हुए छात्रों को तलाशने के लिए अब एनडीआरएफ और नेवी के 22 गोताखोर ब्यास की धाराओं में उतरेंगे। गुरुवार को गोताखोर पंडोह पहुंच चुके हैं। एनडीआरएफ के 15 और नेवी के 7 गोताखोर हैं। कुछ स्थानीय गोताखोर भी उनकी सहायता के लिए बुलाए गए हैं। सर्च ऑपरेशन में आईटीबीपी, एसएसबी, हिमाचल प्रदेश पुलिस के जवान भी शामिल हैं। गुरुवार को मिले दो शवों की शिनाख्त टी उपेंद्र पुत्र जलाड़ा श्रीनिवास और जी घुनौर अरविंद्र कुमार पुत्र विनोद कुमार के रूप में हुई है। एक छात्र का शव हादसा स्थल थलौट से करीब पांच सौ मीटर दूर ब्यास नदी के किनारे मिला जो पत्थरों के बीच फंसा हुआ था। इस शव को निकालने में सर्च दर्ल को करीब ढाई घंटे का समय लगा। उसके बाद कड़ी मश्क्कत से इस शव को बाहर निकाला गया जबकि दूसरे छात्र का शव इससे आगे मिला अत्याधुनिक मशीनें भी करेंगी सर्च एनडीआरएफ थलौट हादसे में लापता छात्रों के शवों की तलाश के लिए अत्याधुनिक मशीनें और कैमरे का इस्तेमाल करेगी। जो मशीनें दूर से भी बताएगी कि शव कहां है क्योंकि थलौट से लेकर पंडोह तक कई ऐसे स्पॉट हैं जहां सड़क और नदी की दूरी काफी है और नदी किनारे जाना मुश्किल है और इन स्थानों में सिर्फ वोट या राफ्ट के साथ ही पहुंचा जा सकता है। ऐसे में ये मशीन और कैमरे इस सर्च ऑपरेशन में काफी सहायक होंगे। रेसक्यू में लगे जवानों की मानें तो शव अधिकतर या तो पत्थरों के नीचे या बीच में फंसे हुए हैं और जलस्तर निरंतर बढ़ता जा रहा है। किनारों पर ज्यादातर पत्थर हैं ऐसे में कहां खोजें और कहां न खोजें कोई पता नहीं चल रहा है। मशीनों और कैमरों से मदद मिलेगी। हेलिकॉप्टर नहीं, बाई रोड जा रहे शव बुधवार को मिले शबीर हुसैन के शव को आंध्र प्रदेश ले जाने के लिए मंडी में खराब मौसम के चलते हेलिकॉप्टर उपलब्ध नहीं हो पाया। परिजनों के आग्रह पर जिला प्रशासन ने वाहनों की व्यवस्था कर शव को दिल्ली भेजा। दिल्ली से आगे बाई एयर शव को आंध्रप्रदेश पहुंचाया गया। गुरुवार को मिले दोनों शवों को भी ले जाने के लिए दिल्ली में मौसम की समस्या के चलते हेलिकॉप्टर उपलब्ध नहीं हो सका। इन शवों को ले जाने के लिए प्रशासन परिजनों को बाई रोड वाहन उपलब्ध करवा रहा है। एडीएम मंडी पंकज राय ने बताया कि हेलिकॉप्टर मौसम के आधार पर मुहैया करवाया जा सकता है। रोड से भेजे जाने वाले शवों के लिए वाहनों की व्यवस्था प्रशासन ही कर रहा है।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *