Header ad
Header ad
Header ad

हिमाचल प्रदेश में 1117 स्कूलों में केवल एक-एक और 6786 में केवल दो ही शिक्षक : धूमल का आरोप दूर-दराज के क्षेत्रों में एक नए स्कूल खोलते रहेंगे भले ही वहां केवल दो छात्र ही उपलभध हों : मुख मंत्री

धर्मशाला (अरविन्द शर्मा )
हिमाचल के पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने आरोप लगाया की कहा कि प्रदेश के मौजूदा मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह नए स्कूलों और कॉलेजों को खोलने की होड़ में लगे है , पदेश में शिक्षा के सरकारी संस्थानों को धडा धड खोला जा रहा ,जिससे शिक्षा के मानकों पर सीधा असर पद रहा है I धूमल ने कहा की माना जा रहा है अपने सिर्फ दो वर्षों के कार्यकाल में मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने हिमाचल जैसे छोटे से राज्य में 100 प्राथमिक स्कूलों और 16 डिग्री कॉलेजों को खोल कर राजनितिक लाभ उठाने की कोशिश की है I आज हिमाचल प्रदेश में 1117 स्कूलों में केवल एक-एक शिक्षक ही कार्यरत है। जबकि 6786 स्कूल दो दो शिक्षक ही चला रहे है I दरअसल, नए स्कूलों और कॉलेजों को खोलने की होड़ में परदेश में शिक्षकों की भारी कमी हो गयी है जिस और कांग्रेस सरकार का ध्यान ही नहीं है।
धूमल ने शिक्षा की इस बढ़ोतरी को एक “राजनीतिक नौटंकी का नाम दिया है। धूमल ने कहा कि सरकार पर्याप्त बुनियादी ढांचे और संकाय सुनिश्चित करने के बिना नए कॉलेजों को खोलने का कार्य कर रही है ।

एक भाजपा नेता ने कहा की प्रदेश की मौजूदा सरकार ने अभी तक लगभग आधा कार्यकाल पूरा कर लिया है और सरकार की मंशा साफ़ है की अंग्रेजी में एक प्रोफेसर रह चुके पूर्व मुख्यमंत्री धूमल के कार्यकाल में उनके द्वारा शिक्षा को बढ़ावा देने की दिशा में उनके प्रयासों से राज्य में उन्हें मिली अपार लोकप्रियता को नीचा दिखाने प्रयत्न धडा धड शिक्षा संस्थान खोल कर किया जा रहा है।

कांग्रेस सरकार भी चिकित्सा शिक्षा में सुधार लाने पर ध्यान केंद्रित कर रहा है और अगले साल तक पिछले भारत सरकार द्वारा घोषित तीन मेडिकल कॉलेजों शुरू करने का वादा किया है।
उधर मुख्यमंत्री ने इस आलोचना की परवाह न करते हुए बताया की शिक्षा के स्तर में सुधार के साथ आगे जाने के लिए उनकी सरकार कटिबद्ध है तथा पूर्व केंदर सरकार द्वारा घोषित तीन मेडिकल कालेजो को भी जल्द ही परदेश में खोला जायगा I वीर भद्र सिंह जिनके पास शिक्षा मंत्राला भी है ,ने कहा की आलोचनाये उन्हें शिक्षा क्षेत्र में किये जाने वाले सुधारों से नहीं रोक सकती I
उन्होंने कहा की वह दूर-दराज के क्षेत्रों में एक नए स्कूल खोलने उका क्रम वह जरी रखेंगे भले ही वहां केवल दो छात्र ही उपलभध होंI दूरदराज के क्षेत्रों में नए खुले स्कूलों में लड़कियों की एक अच्छी संख्या आकर्षित हो रही है । उन्होंने कहा की नए खोले गए 16 कालेजों में से प्रत्येक को बजेट में 5 करोड़ देने का प्रावधान किया गया है।
हिमाचल प्रदेश में साक्षरता स्तर भारत में सबसे ऊंची है। यह 82.8 प्रतिशत साक्षरता दर है। यह पुरुषों के लिए 89.53 प्रतिशत और महिलाओं के लिए 75.93 प्रतिशत है।

वीरभद्र सिंह ने बताया कि राज्य के पहले मुख्यमंत्री, वाई.एस. परमार, ने रामपुर शहर में सिर्फ 18 छात्रों एक डिग्री कॉलेज खोला जिसके लिए 23 प्रोफसर को वहाँ भेजा । उस समय परमार शिक्षा का प्रसार करना चाहते हैं, तो आज इस कॉलेज में 2,500 छात्र हैं।
उन्होंने कहा कि वरिष्ठ माध्यमिक स्तर के लिए प्रोत्साहित किया गया है पिछले दो साल में 100 प्राथमिक स्कूलों को खोला गया इसके अतिरिक्त 160 प्राथमिक स्कूलों को मध्यम स्तर तक ऊपर उठाया गया, 233 मध्य विद्यालयों को उच्च स्तर के स्कूलों और 225 उच्च विद्यालयों को वरिस्थ माध्मिक बनाया गया है । राज्य में इस समय 10,738 प्राथमिक, 2292 मध्य, 86 डिग्री कॉलेजों के अलावा 846 उच्च और 1552 वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालयों है ।

Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)