October 22, 2017

‘हमें शर्म है कि रामपाल हमारे गांव में पैदा हुए’

2014_11image_13_33_094324000aa@@-llनई दिल्ली: सतलोक आश्रम के विवादित संत रामपाल दास रोहतक की सीमा से सटे सोनीपत जिले के जिस गांव धनाना में खेलकूद कर बड़े हुए वही के बाशिंदे संत से जुड़े विवादों को गांव की बदनामी मान रहे हैं। ग्रामीणों का कहना है कि हमे शर्म है कि हमारे गांव में रामपाल पैदा हुए। उनका कहना है कि रामपाल ने 25-30 साल पहले ही गांव छोड़ दिया था। वे अपना मकान भी बेच गए। गांव में केवल उनके चाचा का लड़का ही रहता है। ग्रामीण कहते हैं कि रामपाल कानून से ऊपर नहीं हो सकते। उनका कहना है कि रामपाल को सरेंडर कर देना चाहिए। इस मामलें से गांव का कोई लेना-देना नहीं है। जो करेगा, वह भरेगा। दूसरी तरफ हरियाणा के हिसार के संत रामपाल पर देशद्रोह का मामला दर्ज कर दिया गया है। अब रामपाल से कोई बातचीत नहीं की जाएगी। सुरक्षा के मद्देनजर मीडिया को सतलोक आश्रम से दूर रहने के लिए कहा गया है। वहीं अब तक करीब 10 हाजार लोगों को आश्रम से बाहर निकाल लिया गया है, जबकि अभी 5 हजार लोग आश्रम के अंदर ही है। संत रामपाल की गिरफ्तारी को लेकर हिसार में अबी बी माहौल गर्माया हुआ है। जिससे वहीं की स्थिती गंभीर बनी हुई है।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *