Header ad
Header ad
Header ad

समर्पण से जन सेवा को तत्पर रहें पुलिस जवान: श्री वीरभद्र सिंह

धर्मशाला, 11 जुलाई:मुख्यमंत्री श्री वीरभद्र सिंह ने प्रशिक्षण प्राप्त कर
पुलिस बल में शामिल होने जा रहे जवानों का आह्वान किया है कि वे पूर्ण समर्पण
एवं निःस्वार्थ भाव से आम लोगों की सेवा करें। मुख्यमंत्री आज कांगड़ा जिले की
पालमपुर तहसील के डरोह में स्थापित पुलिस प्रशिक्षण केन्द्र में आयोजित पासिंग
आउट परेड समारोह को सम्बोधित कर रहे थे।
श्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि मानवता की सेवा में पुलिस के जवानों की
महत्वपूर्ण भूमिका है और उन्हें आशा है कि पुलिस के जवान लोगों की अपेक्षाओं
पर खरा उतरेंगे तथा देश के कानून का आदर करते हुए अपने उत्तरदायित्वों का
समुचित निर्वहन करेंगे।उन्होंने कहा कि पुलिस जवानों को दिया गया प्रशिक्षण
तथा उनके द्वारा प्रदर्शित प्रस्तुति उच्च स्तर की है। उन्होंने कहा कि उन्हंे
आशा है कि पुलिस के जवान दैनिक जीवन में अनुकरणीय अनुशासन एवं साहस का परिचय
देते हुए अन्य के उदाहरण प्रस्तुत करेंगे।मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस कर्मी
सरकार की छवि के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और आम लोगों के साथ
उनका व्यवहार, सम्बन्ध तथा लोगों की समस्याओं को सुलझाने के लिए किए गए उनके
सतत् प्रयास पुलिस विभाग की छवि को सुधारने में भी सहायक सिद्ध होंगे।
श्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि देव भूमि के नाम से विख्यात हिमाचल प्रदेश
प्राकृतिक सौन्दर्य और धार्मिक महत्व के स्थानों के कारण विश्व भर के पर्यटकों
में लोकप्रिय है। उन्होंने आशा जताई कि पुलिस के जवान पर्यटकों के साथ मित्रवत
व्यवहार एवं सहयोग का नज़रिया रख प्रदेश की शांति को बरकरार रखना सुनिश्चित
बनाएंगे।
उन्होंने पुलिस के जवानों को सलाह दी कि वे खाकी वर्दी की प्रतिष्ठा को बनाए
रखेंगे। उन्होंने कहा कि समाज के कमज़ोर एवं जरूरतमंद व्यक्तियों की सुरक्षा
पुलिस जवानों का दायित्व है और ऐसे लोगों में निडर होकर जीवन व्यतीत करने का
विश्वास जगाना आवश्यक है।मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल की पुलिस को
कर्तव्यपरायणता के लिए जाना जाता है। उन्होंने कहा कि आज पुलिस बल में शामिल
हुए जवान प्रदेश पुलिस द्वारा स्थापित उच्च आर्दशों की अनुपालना सुनिश्चित
बनाएंगे और कर्तव्यपरायणता के माध्यम से विभाग की साख बनाए रखेंगे।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने पुलिस बल के आधुनिकीकरण के प्रयास आरम्भ किए
हैं और गत एक वर्ष में इस कार्य के लिए 2.37 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया
है। प्रदेश सरकार पुलिस बल के आधुनिकीकरण के प्रति वचनबद्ध है और पुलिस
आधुनिकीकरण योजना के अन्तर्गत आधुनिक संचार व्यवस्था, तकनीक एवं प्रशिक्षण
इत्यादि के लिए इस वर्ष 2.16 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है।
श्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि वर्ष 2013-14 में पुलिस विभाग के कर्मियों के
आवास एवं गैर आवासीय भवनों के निर्माण के लिए 21.15 करोड़ रुपये उपलब्ध करवाए
गए। इस वर्ष आवासों एवं गैर आवासीय कार्यों पर 23.66 करोड़ रुपये व्यय किए जा
रहे हैं।मुख्यमंत्री ने पुलिस प्रशिक्षण महाविद्यालय डरोह के कर्मियों और आज
अपना प्रशिक्षण पूरा करने वाले 665 प्रशिक्षुओं को बधाई दी। इनमें से 159
महिला आरक्षी हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें आज प्रशिक्षण पुरा कर रहे जवानों की
क्षमता पर पूरा विश्वास है और ये जवान पूर्ण लग्न एवं क्षमता के साथ जनता की
सेवा करेंगे। उन्होंने सभी जवानों के उज्ज्वल भविष्य की कामना की। उन्होंने
जवानों के अविभावकों को भी बधाई दी।
मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर मेधावी जवानों को पुरस्कार भी वितरित किए और परेड
का निरीक्षण कर जवानों द्वारा प्रस्तुत भव्य मार्चपास्ट की सलामी ली। उन्होंने
पुलिस प्रशिक्षण महाविद्यालय डरोह के प्रांगण में एक पौधा भी रोपा। महिला
प्रशिक्षणार्थी सरिता को सर्वश्रेष्ठ कैडेट घोषित किया गया।प्रशिक्षण प्राप्त
कर रहे जवानों ने इस अवसर पर एक रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया
और अपनी दक्षता का प्रदर्शन किया।
मुख्यमंत्री ने इससे पूर्व महिला तथा पुरुष पुलिस बल के लिए निर्मित बैरेक का
लोकार्पण किया। इनका निर्माण क्रमशः 1.65 करोड़ तथा 3.25 करोड़ रुपये की लागत से
किया गया है।
उन्होंने इन भवनों की साज-सज्जा के लिए 20 लाख रुपये तथा पुलिस प्रशिक्षण
केन्द्र परिसर में भवनों के रख-रखाव और सड़कों एवं मार्गों के लिए 10-10 लाख
रुपये प्रदान करने की घोषणा की। श्री वीरभद्र सिंह ने इस अवसर पर पुलिस
प्रशिक्षण केन्द्र डरोह में कार्यरत चिकित्सा अधिकारी श्री नवीन राणा द्वारा
लिखित पुस्तक ‘चिकित्सा विज्ञान एवं पुलिस अन्वेषण’ का विमोचन भी किया।
इससे पूर्व, प्रदेश के पुलिस महानिदेशक श्री संजय कुमार ने मुख्यमंत्री का
स्वागत किया और प्रशिक्षण केन्द्र में चल रही गतिविधियों की विस्तृत जानकारी
प्राप्त


की। उन्होंने कहा कि यहां पूर्व में पाचं भवन निर्मित किए गए हैं और प्रशिक्षण
केन्द्र में एम.ए. तथा एम.फिल पाठ्यक्रम आरम्भ करने का प्रस्ताव विचाराधीन है।
पुलिस प्रशिक्षण केन्द्र डरोह के महानिरीक्षक प्रशिक्षण श्री जी.डी. भार्गव ने
प्रशिक्षण पूरा करने वाले जवानों को पद एवं गोपनियता की शपथ दिलाई। उन्होंने
कहा कि इन जवानों में कुछ उच्च शिक्षा प्राप्त हैं और आधुनिक तकनीक की पूर्ण
जानकारी रखने के साथ-साथ उत्कृष्ट खिलाड़ी भी हैं।
अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एपीटी) श्री एस.आर. ओझा ने धन्यवाद प्रस्ताव
प्रस्तुत किया।
परिवहन मंत्री श्री जी.एस. बाली, कृषि तथा उर्जा मंत्री श्री सुजान सिंह
पठानिया, वन मंत्री श्री ठाकुर सिंह भरमौरी, मुख्य संसदीय सचिव श्री जगजीवन
पाल, विधायक सर्व श्री अजय महाजन, संजय रत्न एवं यादविन्द्र गोमा, राज्य योजना
बोर्ड के अध्यक्ष श्री जी.आर. मुसाफिर, कांगड़ा केन्द्रीय सहकारी बैंक के
अध्यक्ष श्री जगदीश सिपहिया, हिमुडा के उपाध्यक्ष श्री यशवन्त छाजटा, पुलिस
विभाग के वरिष्ठ अधिकारी एवं अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित थे।
Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)