Header ad
Header ad
Header ad

’संस्कृति और इतिहास का ज्ञान उज्जवल भविष्य का आधार है- डा. शांडिल’

Picture1 018

’दो दिवसीय स्थानीय छावसा मेला सम्पन्न’

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मन्त्री डा. धनी राम शांडिल ने आज कण्डाघाट
उपमण्डल के तहत छावसा में दो दिवसीय स्थानीय मेले के समापन अवसर पर जनसभा को
सम्बोधित करते हुए कहा कि संस्कृति और इतिहास का ज्ञान उज्जवल भविष्य का आधार
है। उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि क्षेत्र विशेष के समृद्ध खानपान को सहेज
कर रखें क्योंकि इस के माध्यम से जहां क्षेत्रीय विशेषताओं की जानकारी भावी
पीढ़ी को मिलती है वहीं प्रदेश में पर्यटन क्षेत्र को मजबूती प्रदान करने में इस
का विशेष लाभ मिल सकता है।
उन्होंने कहा कि पुराने समय में लोगों को मिलने का एकमात्र मौका मेलों में
ही मिलता था। असंख्य की तादाद में महिला-पुरुष रंगबिरंगी पौशाकों में
मेलों में आते थे और एकदूसरे से मिलते थे, जिस से आपसी भाईचारे को
तो बढ़ावा मिलता ही था साथ-ही उन्हें मेलों में प्राचीन संस्कृति की झलक भी
देखने को मिलती थी।
सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री ने कहा कि पहले जमाने में लोगों के
मनोरंजन का एकमात्र साधन करियाला होता था जिसमें पुरुष तरह-तरह के स्वांग रच
कर लोगों का मनोरंजन करते थे। उन्होंने कहा कि आज के परिवेश में टी.वी.
के प्रचलन से हम प्राचीन संस्कृति को भूलते जा रहे हैं जो कि चिन्ता का विषय
है।डा. शाडिंल ने इस अवसर पर कहा कि चारदेव-डुमैहर तक लगभग 5 किलोमीटर
लम्बी सड़क की मैटलिंग ओैर टायरिंग पर 2.38 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं।
इस सड़क पर कार्य शीघ्र आरम्भ किया जायेगा। उन्होंने कहा कि राजकीय वरिष्ठ
माध्यमिक पाठशाला छावसा में 13.50 लाख रुपये खर्च कर तीन कमरों का निर्माण 31
मार्च 2015 तक पूरा कर लिया जाएगा। 56 लाख रुपये की लागत से निर्माणाधीन
छावसा, 23 लाख की पपलोल, 29 लाख की चीनी-पाढली तथा एक करोड़ बतीस लाख की
डुमैहर उठाऊ सिंचाई योजनाओं का निर्माण कार्य प्रगति पर है। इनके पूरा होने
पर इस पूरे क्षेत्र के किसानों को बेहतर सिचांई सुविधा उपलब्ध होगी ।
उन्होंने कहा कि वाकनाघाट में प्रस्तावित सब्जी मण्डी निर्मित करने का शीघ्र
प्रयास किया जायेगा ताकि क्षेत्र के किसानों को अपने उत्पाद के अच्छे दाम मिल
सके । उन्होंने कहा कि छावसा से कुराघाट सड़क को अनुसूचित जाति घटक योजना
में शामिल करने के लिए सर्वेक्षण कर औपचारिकताएं पूरी की जायेंगी। उन्होंने
पौघाट-कुनिहार मार्ग पर खडड् पर पुल निर्मित करने के लिए लोक निमार्ण विभाग
अधिकारियों को डीपीआर तैयार करने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि
छावसा-वाकनाघाट मार्ग पर बसें अपने निर्धारित रुटों पर चलती रहेंगी तथा
लड़कियों की सुविधा के लिए नया रुट आरम्भ करने का मामला परिवहन मन्त्री से
उठाया जायेगा।
डा. शाडिंल ने प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र छावसा में एक्स-रे तकनीशियन का मामला
स्वास्थ्य मन्त्री से उठाने का आश्वासन देते हुये कहा कि प्राथमिक स्वास्थ्य के्रन्द्र
छावसा में मरीजों को हर समय चिकित्सक की सुविधाएं उपलब्ध करवाने का प्रयास
भी किया जायेगा।
उन्होंने इस अवसर पर मेला समिती को ऐच्छिक निधि से पांच हजार एक सौ रुपये
देने की घोषणा की।
मण्डी समिति सोलन के अध्यक्ष रमेश ठाकुर ने इस अवसर पर क्षेत्र में हुए विकास की
विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने मेला आयोजन समिति को अपनी ओर से तीन हजार एक
सौ रुपये दिए।
खण्ड विकास समिती कण्डाघाट के सदस्य सन्तोष ठाकुर ने स्थानीय समस्याओं से
मुख्य अतिथि को अवगत करवाया।
छावसा पंचायत के प्रधान हीरानन्द कश्यप ने मुख्यातिथि का स्वागत किया जबकि मेेला
कमेटी के सचिव ज्ञान वर्मा ने धन्यवाद किया।
इस अवसर पर एसडीएम कण्डाघाट, एस.एम.साहनी, मेला समिति के प्रधान गंगा राम,
महिला मण्डल प्रधान लीला ठाकुर, डा. शांडिल की सुपुत्री दीपाली धौल, पूर्व
बीडीसी उपाध्यक्ष ज्ञान ठाकुर, सदस्य गीता वर्मा, के अलावा अन्य अधिकारी तथा
गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)