Header ad
Header ad
Header ad

रज्जू मार्ग से जुड़ेगा आदि हिमानी चामुण्डा: सुधीर – 200 करोड़ की परियोजना स्वीकृत करने के लिए मुख्यमंत्री का आभार – रज्जू मार्ग से कांगड़ा में पर्यटन व्यवसाय को मिलेगा बढ़ावा

धर्मशाला, 9 जुलाई: आदि हिमानी चामुण्डा को रज्जू मार्ग से जोड़ने के लिए 200 करोड़ रुपए की परियोजनाएं स्वीकृत करने हेतु शहरी विकास एवं आवास मंत्री, श्री सुधीर शर्मा ने मुख्यमंत्री, श्री वीरभद्र सिंह का आभार व्यक्त किया है।इस महत्वाकांक्षी परियोजना से कांगड़ा जिला में पर्यटन व्यवसाय को बढ़ावा मिलेगा।
उन्होंने अपने वक्तव्य में कहा है कि धौलाधार पर्वत श्रृंखला के मध्य समुद्रतल से लगभग 10 हजार फुट की ऊंचाई पर आदि हिमानी चामुण्डा का प्राचीन मंदिर स्थित है, जहां पर पर्यटन की आपार संभावनाएं विद्यमान हैं। उन्होंने कहा कि कांगड़ा जिला के विभिन्न क्षेत्रों से असंख्य श्रद्धालु एवं देश-विदेश से पर्यटक हर वर्ष लगभग 8 किलोमीटर की चढ़ाई चढ़ कर आदि हिमानी चामुण्डा माता के मंदिर पहुंचकर आशीर्वाद प्राप्त करते हैं और इस सुरम्य स्थल की नैसर्गिक छटा का आनंद प्राप्त करते हैं।
श्री सुधीर शर्मा ने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा इस पावन स्थल को श्री बैष्णो देवी की तर्ज पर विकसित करने के लिए कार्ययोजना तैयार की गई है जिसमें रज्जू मार्ग के अतिरिक्त हिमानी चामुण्डा मंदिर के साथ बनने वाले टर्मिनल के समीप एक ओपन एयर रेस्तरां तथा अन्य सुविधाएं भी सृजित की जाएंगी। इसके अतिरिक्त इस महत्वाकांक्षी परियोजना के अंतर्गत श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए आदि हिमानी चामुण्डा में बिजली, पानी एवं अन्य मूलभूत सुविधाओं का भी सृजन किया जाएगा।
शहरी विकास मंत्री ने कहा कि योजना के तहत चामुण्डा नंदिकेश्वर मंदिर के समीप 500 वाहनों की पार्किंग सुविधा, रेस्तरां, चिल्ड्रन पार्क और काॅटेज सहित ठहरने की अन्य सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाएंगी, जबकि परियोजना में मध्य ठहराव के स्थान पर भी पर्यटकों के लिए ठहरने की व्यवस्था की जाएगी। उन्होंने कहा कि इस रज्जू मार्ग के माध्यम से पर्यटक चामुण्डा नंदिकेश्वर धाम से केवल 20 मिनट में आदि हिमानी चामुण्डा पहुंचेंगे तथा इस रज्जू मार्ग की एकतरफ की क्षमता 1000 से 1200 व्यक्ति प्रति घंटा होगी।
श्री सुधीर शर्मा ने कहा कि शक्तिपीठों के कारण कांगड़ा जिला विश्व में धार्मिक पर्यटन के नाम से विख्यात है तथा आदि हिमानी चामुण्डा के पर्यटन की दृष्टि से विकसित होने पर जिला में पर्यटन को और बढ़ावा मिलेगा तथा देश-विदेश से आने वाले पर्यटक एवं श्रद्धालु शक्तिपीठों के दर्शन करने के साथ-साथ आदि हिमानी चामुण्डा पहुंचकर प्रकृति की अनुपम छटा का भरपूर आनंद ले सकेंगे। उन्होंने कहा कि इस परियोजना के पूर्ण होने पर स्थानीय लोगों के लिए स्वरोजगार के अवसर भी उपलब्ध होंगे।
उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा ग्रामीण पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए विशेष सुविधाएं प्रदान की जा रही हैं। पिछड़ी पंचायतों में होटल बनाने पर 10 वर्षों तक विलासिता कर में छूट दी गई है। उन्होंने कहा कि आदि हिमानी चामुण्डा के आस-पास के गांव के लोग इस योजना का लाभ उठा सकते हैं, जिससे जहां पर्यटकों को ग्रामीण क्षेत्र की संस्कृति, शांतप्रिय एवं प्रदूषणमुक्त वातावरण, पारम्परिक खान-पान के व्यंजन इत्यादि की सुविधा प्राप्त होगी, वहीं पर स्थानीय लोग आर्थिक रूप से सुदृढ़ बनेंगे।

Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

 Click this button or press Ctrl+G to toggle between multilang and English

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *