Header ad
Header ad
Header ad

मुख्य संसदीय सचिव श्री रोहित ठाकुर का 20 नवम्बर, 2014 को शिमला में जारी प्रेस वक्तव्य’

मुख्य संसदीय सचिव श्री रोहित ठाकुर ने ठियोग-हाटकोटी-रोहड़ू मार्ग को लेकर

भाजपा की पदयात्रा को राजनीतिक ड्रामा करार देते हुए कहा कि यह पदयात्रा पूरी तरह
फ्लाॅप रही है। उन्होंने कहा कि भाजपा नेता अपने राजनीतिक अस्तित्व को बनाये
रखने और विकास के महत्वपूर्ण मामलों से प्रदेश के लोगों का ध्यान हटाने के
लिए इस तरह का ड्रामा कर रहे हैं।

श्री रोहित ठाकुर ने कहा कि भाजपा नेता और पूर्व बागवानी मंत्री अपने शासनकाल
की नाकामियों को छुपाने और अपने राजनीतिक अस्तित्व को बचाने के लिए क्षेत्र की
जनता को गुमराह करने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार
ठियोग-कोटखाई-हाटकोटी-रोहड़ू सड़क निर्माण को लेकर गम्भीर है। उन्होंने
कहा कि 80.684 किलोमीटर लम्बे मार्ग की 228.25 करोड़ रुपये की लागत से विश्व
बैंक द्वारा वित्त पोषित इस राज्य सड़क परियोजना का कार्य चीन की कंपनी को
आवंटित किया गया था। पूर्व भाजपा सरकार ने सड़क निर्माण का श्रेय लेने के लिए
वर्ष 2008 में तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री प्रेम कुमार धूमल द्वारा इस मार्ग की
आधारशिला रखी। इसके बाद किसी भी स्तर पर सड़क निर्माण कार्य में कोई रूचि
नहीं ली गई और सड़क की हालत बद से बदतर होती चली गई, जो भाजपा की सेब
उत्पादक क्षेत्रों के प्रति असंवेदनशीलता को दर्शाती है।

रोहित ठाकुर ने कहा कि हिमाचल निर्माता डा. यशवंत सिंह परमार के शासनकाल से
इस सड़क को राज्य उच्च मार्ग का दर्जा प्रदान था, परन्तु भाजपा सरकार के
भेदभावपूर्ण रवैये के कारण 23 मई, 2001 को अधिसूचना जारी कर
ठियोग-कोटखाई-हाटकोटी सड़क को डिनोटिफाई कर जिला ग्रामीण सड़क की
श्रेणी में लाया गया। उस समय श्री बरागटा प्रदेश सरकार में बागवानी मंत्री थे।
उन्होंने कहा कि इससे पता चलता है कि भाजपा सेब उत्पादक क्षेत्रों के लोगों के
प्रति क्या दृष्टिकोण रखती है और कितनी गंभीर है?

श्री ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने सेब आर्थिकी में इस मार्ग के महत्व और
पर्यटन के दृष्टिगत इसे राज्य उच्च मार्ग घोषित किया, ताकि लोगों को बेहतर
यातायात एवं विपणन सुविधा उपलब्ध हो सके।

मुख्य संसदीय सचिव ने कहा कि चीन की कम्पनी ने भाजपा सरकार के कार्यकाल में
लगभग 18 प्रतिशत कार्य ही किया, जबकि इसी कंपनी ने एक अन्य जिले में इसी प्रकार
की एक परियोजना को पूरा किया, जिसमें तत्कालीन भाजपा नेतृत्व की विशेष रूचि
थी। भाजपा कार्यकाल के दौरान शिमला जिले में मार्गों की दयनीय स्थिति के
कारण लगभग 1200 लोगों ने सड़क दुर्घटनाओं में अपनी जानें गवाई जिसमें
सर्वाधिक दुर्घटनाएं इस मार्ग पर हुई। इसके अतिरिक्त, करोड़ों रुपये के सेब
सड़क के किनारे ही सड़ गए।

उन्होने  कहा कि ठियोग-कोटखाई-हाटकोटी-रोहडू सड़क के निर्माण के साथ ही
ऊना जिले की महतपुर-ऊना सड़क के निर्माण का कार्य भी चीन की कंपनी को आवंटित
किया गया था, जिसका निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। श्री बरागटा पूर्व भाजपा
शासन में इस क्षेत्र से मंत्री होते हुए सड़क कार्य को समय पर पूरा नहीं करवा
पाए। अब जबकि कांग्रेस सरकार के सत्ता में आते ही विश्व बैंक द्वारा वित्त पोषित
321 करोड़ रुपये की की इस परियोजना का कार्य वैश्विक निविदा के माध्यम से सी.
एण्ड सी. कंपनी को दिया और बीते सेब सीजन के उपरांत कंपनी द्वारा निर्माण कार्य
में तेजी लाई गई जिसको देखते हुए श्री बरागटा को लगा कि यदि यह कार्य
वर्तमान कांग्रेस सरकार ने पूरा कर दिया तो सारा श्रेय कांग्रेस ले जाएगी। इसी के
चलते उन्होंने लोगों को गुमराह कर पद्यात्रा का ढोंग रचा है ताकि राजनीतिक
रूप से अपना वजूद कायम रख सकें।

श्री ठाकुर ने कहा कि प्रदेश की सरकार इस सड़क का निर्माण निर्धारित समयावधि के
भीतर पूरा करने के लिए वचनबद्ध है तथा यह कार्य तीन वर्षों में पूर्ण कर लिया
जाएगा। यदि कंपनी द्वारा कोताही बरती गई तो सरकार कंपनी के खिलाफ कड़ी
कार्रवाई करेगी।

श्री ठाकुर ने भाजपा नेता के उस बयान पर भी हैरानी जताई, जिसमें उन्होंने कहा
है कि भाजपा ने अपने शासनकाल के दौरान इस सड़क के निर्माण के लिए 10 करोड़
रुपये की अतिरिक्त राशि उपलब्ध करवाई थी, जबकि सच्चाई यह है कि पूर्व भाजपा
सरकार के कार्यकाल में इस सड़क की मुरम्मत व रखरखाव पर एक भी पैसा खर्च नहीं
किया गया। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार के दो वर्ष के कार्यकाल के दौरान सेब
सीजन सुचारू रूप से चला और सेब विपणन में किसी भी प्रकार का व्यवधान नहीं
आया। जबकि पूर्व भाजपा सरकार के कार्यकाल में इस सड़क की जो दुर्गति की गई
उसी का खामियाजा आज आम जनता को भुगतना पड़ रहा है।

उन्होंने कहा कि यह शर्मनाक है कि भाजपा नेता अपनी सरकार के कार्यकाल के
दौरान इस परियोजना में देरी के लिए माफी मांगने के बजाय समूचे मामले का
राजनीतिकरण कर रही है और क्षेत्र के लोग भलीभांति जानते हैं कि भाजपा
विकास विरोधी है तथा राज्य के शांत वातावरण को बिगाड़ने में विश्वास करती
है। क्षेत्र के लोग भाजपा नेताओं की इन घटिया चालों में आने वाले नहीं हैं।

 

Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)