Header ad
Header ad
Header ad

मनाली से रोहतांग सीएनजी बस का ट्रायल रहा सफलः बाली

dधर्मशाला, 21 जुलाई: प्रदेश सरकार के प्रयासों से रोहतांग के लिए सीएनजी बस
चलाने का ट्रायल सफल रहा है। आज प्रातः मनाली से रोहतांग के लिए पहली 25 सीटर
सीएनजी बस रोहतांग तीन घंटे 5 मिनट में पहंुच गई। यह जानकारी परिवहन, तकनीकी
शिक्षा एवं खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री श्री जी. एस. बाली ने आज यहां
प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए दी।
     श्री बाली ने कहा कि नैशनल ग्रीन ट्रब्यूनल द्वारा प्रदेश सरकार को इस
क्षेत्र में डीजल चलित वाहनों के स्थान पर सीएनजी वाहनों के प्रयोग के लिए
निर्देशित किया गया था। इसी संदर्भ में पथ परिवहन निगम द्वारा किए गए प्रयास
सफल रहे हैं। उन्होंने बताया कि बहुत से लोगों द्वारा यह क्यास लगाए जा रहे थे
कि प्रदेश में सीएनजी वाहनों का उपयोग संतोषजनक नहीं रहेगा तथा इस इंधन से
चलने वाले वाहन पहाड़ी क्षेत्रों में तो चल ही नहीं सकते को पथ परिवहन निगम के
इस प्रयास ने झूठा साबित करते हुए नया आयाम स्थापित किया है। इस प्रयास से
हिमाचल पथ परिवहन निगम की उपलब्धियों में एक नया अध्याय जुड़ गया है।
     परिवहन मंत्री ने बताया कि परिवहन निगम द्वारा इस संदर्भ में किए जा रहे
प्रयासों का प्रथम चरण पूर्ण कर लिया गया है। अगले चरण में प्रदेश में सीएनजी
स्टेशनों को चिन्हित कर उनकी संख्या बढ़ाना तथा इस प्रकार के वाहनांे की संख्या
बढ़ाने के लिए धन की उपलब्धता अगली चुनौती होगी। जिस संदर्भ में नैशनल ग्रीन
ट्रब्यूनल से फंडिग के लिए प्रदेश सरकार अपना पक्ष रखेगी। उन्होंने कहा कि
प्रदेश सरकार के समक्ष इस क्षेत्र में टैक्सी व्यवसाय से जुड़े लोगों के
व्यवसाय के उजड़ने एवं इन लोगों के बेरोजगार होने का डर भी है। उन्होंने कहा कि
प्रदेश सरकार ग्रीन ट्रब्यूनल एवं टैक्सी ऑपरेटरों से इस समस्या के समाधान के
लिए कॉ-ओपरेटिव सोसाईटी के रूप में इक्ट्ठा कर इस क्षेत्र में चल रही
टैक्सियोें को सीएनजी में तबदील कर इन वाहनों को पुनः इस क्षेत्र में अवागमन
के परमिट प्रदान करने के लिए प्रयास करेगी। इसके अतिरिक्त इसी क्षेत्र में इन
सोसाईटियों को सीएनजी बस रूट उपलब्ध का भी प्रावधान किया जाएगा।
     परिवहन मंत्री ने हाल ही में प्रदेश में अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग द्वारा
उनके दौरे के दौरान प्रदेश की कुछ जातियों विशेषकर चांग जाति को इस वर्ग से
बाहर करने के सुझाव का विरोध करते हुए कहा कि आयोग का यह सुझाव तर्कसंगत नहीं
है। उन्होंने कहा कि वह प्रदेश के ओबीसी बाहुल विधानसभा क्षेत्र का नेतृत्व कर
रहे हैं तथा उन्हें इस जाति के लोगों के जीवनस्तर का पूरा ज्ञान है। यह वर्ग
अभी भी सामान्य धारा से बहुत अधिक आर्थिक तौर पर पिछड़ा हुआ है। आवश्यकता है कि
इसे इस वर्ग में रख कर लोगों को ऊपर उठने के अवसर दिए जाए।
     उन्होंने यह भी कहा कि प्रदेश एवं जिला में बरसात से भारी नुकसान हो रहा
है। उन्होंने बताया कि जिला कांगड़ा के समस्त प्रशासनिक अधिकारियों को
निर्देशित किया गया है कि बरसात से हो रहे नुकसान की भरपाई के लिए लोगों को
अभिलंब यथासंभव सहायता उपलब्ध करवाई जाए। उन्होंने कहा कि हो रही बरसात से
जहां कृषक वर्ग को राहत मिली है वहीं इससे लोक निर्माण व सिंचाई एवं जन
स्वास्थ्य विभाग को बहुत अधिक नुकसान भी हुआ है। जिसके लिए सरकार से धन की
उपलब्धता के लिए मामला उठाया जाएगा।
      प्रेस वार्ता के दौरान परिवहन मंत्री के साथ प्रदेश कांग्रेस के महा
सचिव अजय वर्मा, जिला कंाग्रेस कमेटी के महा सचिव मनोज मेहता, ब्लॉक अध्यक्ष
मान सिंह, सचिव चरित चौधरी सहित अनेक कार्यकर्ता एवं प्रशासनिक अधिकारी
उपस्थित थे।
Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)