Header ad
Header ad
Header ad

भारी वर्षा से 104 करोड़ का नुकसान: उपायुक्त – आपदा से निपटने के लिए व्यापक प्रबंध

धर्मशाला, 02 जुलाईः कांगड़ा जिला में भारी वर्षा एवं भूस्खलन से अब तक 104 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है जिसमें सर्वाधिक लोक निर्माण विभाग का 72 करोड़ तथा सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग का 31 करोड़ 58 लाख शामिल है।
यह जानकारी उपायुक्त, कांगड़ा, श्री सी.पाॅलरासु ने आज यहां कांगड़ा जिला में भारी वर्षा से हुई क्षति का आंकलन करने के लिए आयोजित वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक की अध्यक्षता करते हुए दी। उन्होंने कहा कि किसी भी प्रकार की आपदा से निपटने के लिए जिला प्रशासन तैयार है और सभी आवश्यक प्रबंध कर दिए गए हैं।
उपायुक्त ने बताया कि भारी वर्षा एवं भूस्खलन से जिला में 634 स्थानों पर सड़कों को नुकसान पहुंचा है परंतु विभाग द्वारा सम्पर्क सड़कों को बहाल करने के लिए युद्ध स्तर पर कार्य करके वाहनों की आवाजाही को सामान्य बनाया गया है। इसके अतिरिक्त भारी वर्षा से अनेक पेयजल योजनाओं को क्षति पहुंची है परंतु जिला में पेयजल आपूर्ति को सामान्य बना दिया गया है।
उन्होंने बताया कि जिला में 33 मकानों एवं 13 गऊशालाओं को क्षति पहुंची है जिसमें सर्वाधिक नुकसान बैजनाथ उपमंडल में 23 मकान एवं 7 गऊशालाओं को हुआ है। उन्होंने कहा कि प्रभावित परिवारों को राहत उपलब्ध करवा दी गई है। उन्होंने कहा कि जिला में कार्यरत सभी एसडीएम एवं तहसीलदारों को राहत के लिए राशि उपलब्ध करवाई गई है ताकि किसी भी आपदा के समय अधिकारी मौके पर जाकर प्रभावित परिवारों को राहत उपलब्ध करवा सकें।
उपायुक्त ने सभी अधिकारियों को निर्देश जारी किए कि किसी भी प्रकार की आपदा की सूचना मिलने पर तुरंत मौके पर पहुंचकर बचाव एवं राहत कार्य आरंभ करें। उन्होंने लोक निर्माण विभाग को निर्देश दिए कि वह अपनी मशीनरी एवं मानवशक्ति को हर समय तैयार रखें ताकि आपदा के समय राहत कार्य के संचालन में कोई विलम्ब न हो।
श्री पाॅलरासु ने जिला के सभी एसडीएम को निर्देश दिए कि उपमंडल स्तर पर बचाव दल का तुरंत गठन किया जाए तथा सभी सदस्यों के दूरभाष, मोबाईल नम्बर का व्यापक तौर से प्रचार और प्रसार किया जाए ताकि यह दल आपदा के समय तुरंत कार्रवाई कर सके। उन्होंने उपमंडल स्तर पर नियंत्रण कक्ष स्थापित करने के भी निर्देश दिए।
उपायुक्त ने कहा कि ज्वाली, नूरपुर, देहरा, जैयसिंहपुर के एसडीएम को निर्देश दिए कि वह पौंग डैम अथवा पंडोह डैम से छोड़े जाने वाले पानी के बारे संबंधित परियोजना के अधिकारियों से सम्पर्क बनाए रखें और पानी छोड़ने की सूचना मिलने से पहले व्यास नदी के किनारे स्थित अनेक गांवों के लोगों को सुरक्षित स्थान पर जाने के लिए कहा जाए ताकि बाढ़ के कारण किसी प्रकार की कोई अप्रिय घटना घटित न हो।
उपायुक्त ने जानकारी दी कि जिला स्तर पर लोगों की सुविधा के लिए नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है जिसका दूरभाष नम्बर 01892-224987, 229278 है। इसके अतिरिक्त टाॅल फ्री नम्बर 1077, पुलिस टाॅल-फ्री नम्बर-100, फायर बिग्रेड 101 नम्बर, एम्बुलैंस सेवा 108 नम्बर तथा राज्य नियंत्रण कक्ष का टाॅल फ्री नम्बर 1070 स्थापित किया गया है, जहां पर कोई भी व्यक्ति आपदा के समय सहायता के लिए सूचना दे सकते हैं। इसी प्रकार कोई भी व्यक्ति पुलिस के मोबाईल नम्बर- 9459100100 पर भी संदेश भेज सकते हैं। उन्होंने जानकारी दी कि आपातकालीन कक्ष क्षेत्रीय अस्पताल, धर्मशाला का दूरभाष नम्बर-01892-222133 तथा टांडा मैडीकल काॅलेज का दूरभाष नम्बर 01892-267495 है। इसके अतिरिक्त सेना कार्यालय धर्मशाला के नियंत्रण कक्ष का नम्बर 01892-221912 पर भी आपदा संबंधी सूचना दी जा सकती है।
उपायुक्त ने जानकारी दी कि जिला के 16 दूरदराज़ गांवों में जुलाई एवं अगस्त मास का राशन का अग्रिम कोटा पहुंचा दिया गया है ताकि दुर्गम क्षेत्र में रहने वाले लोगों को खाद्यान्न इत्यादि की कोई समस्या न हो। इसके अतिरिक्त जिला की सभी उचित मूल्य की दुकानों पर पर्याप्त मात्रा में खाद्यान्न उपलब्ध हैं। इसके अतिरिक्त उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिए कि जिला के सभी स्वास्थ्य संस्थानों में प्राथमिक उपचार एवं जीवन रक्षक दवाएं उपलब्ध करवाएं तथा जिला एवं उपमंडल स्तर के अस्पतालों में आपातकालीन सेवाएं चैबीस घंटे तैयार रखें।
पुलिस अधीक्षक, श्री बलबीर ठाकुर ने जानकारी दी कि जिला स्तर पर सहायक पुलिस निरीक्षक के नेतृत्व में बचाव दल का गठन किया गया है जिसमें 10 पुलिस और 12 होमगार्ड के जवान शामिल हैं। यह दल चैबीस घंटे कार्य करेगा और आपदा की सूचना मिलते ही गंतव्य स्थान के लिए रवाना हो जाएगा।
बैठक में अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी श्री राकेश शर्मा के अतिरिक्त, सेना छावनी धर्मशाला व योल तथा एसएसबी सपड़ी (ज्वालामुखी) के वरिष्ठ अधिकारी, जिला में कार्यरत समस्त एसडीएम और विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

 Click this button or press Ctrl+G to toggle between multilang and English

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *