Header ad
Header ad
Header ad

बरसात के जख्म भरेंगे 823 करोड़

28d1-4-300x261हमीरपुर  –  बाढ़ तथा बरसात के नुकसान का आकलन करने पहुंचे केंद्रीय दल ने हिमाचल को 823 करोड़ की सहायता देने की सैद्धांतिक मंजूरी प्रदान कर दी है। केंद्रीय दल का हमीरपुर के जाहू-भोरंज तथा मंडी के धर्मपुर में हुई तबाही को देखकर दिल पसीज गया। केंद्रीय दल ने प्रभावित इलाके की वीडियोग्राफी करने के बाद बेघर हुए परिवारों से भी संपर्क किया। केंद्रीय गृह मंत्रालय की संयुक्त सचिव वीना कुमारी की अगवाई में हमीरपुर पहुंचे पांच सदस्यीय दल के साथ प्रदेश के अतिरिक्त सचिव राजस्व डीसी राणा उपस्थित रहे। केंद्रीय दल ने कहा कि अगस्त की बरसात ने हिमाचल को आठ सौ करोड़ से भी ज्यादा के जख्म दिए हैं। राज्य सरकार द्वारा सौंपी गई 823 करोड़ के नुकसान की रिपोर्ट पर मुहर लगाते हुए केंद्रीय दल ने कहा कि मौके पर नुकसान कहीं ज्यादा है। केंद्रीय दल ने कहा कि हर बार की तबाही से विकराल खड्डों का रूप धारण कर चुके नदी-नालों के चैनेलाइजेशन के लिए ठोस नीति नहीं बनी तो हजारों-करोड़ का नुकसान हर साल होता रहेगा। दल ने मौके पर मौजूद हिमाचल के अधिकारियों को सुझाव दिया कि विद्युत परियोजनाआें के निर्माण और वनों के कटाव से हो रहे प्रभाव को कम करने के लिए ठोस कदम उठाए जाएं। दिल्ली से पहुंचे इस केंद्रीय दल ने बुधवार को धर्मशाला के नड्डी, चड़ी और बगली में हुए नुकसान का जायजा लिया था। गुरुवार तड़के इस दल ने देहरा की बगली पंचायत में बादल फटने से हुए नुकसान का आकलन किया। इसके बाद वरिष्ठ आईएएस अधिकारी वीना कुमारी की अध्यक्षता में एक दल मंडी के धर्मपुर तथा इंजीनियर अद्वितीय प्रकाश की टीम ने हमीरपुर के भोरंज तथा जाहू का दौरा किया। यह टीम शुक्रवार को सिरमौर जिला का दौरा करने के बाद दिल्ली लौटेगी। गुरुवार को दल ने हमीरपुर, लंबलू, टिक्कर खतरियां, कंजयाण, जाहू पुल, खड्ड बाजार, धिरड़, बधाणी, चंबोह, जोह, आदि वर्षा से बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर नुकसान का जायजा लेने के साथ बाढ़ प्रभावितों की स्थिति के बारे में भी जानकारी ली। हमीरपुर जिला में 72 करोड़ के नुकसान का आकलन किया गया है। इसमें 39 करोड़ 18 लाख 29 हजार लोक निर्माण विभाग, 11 करोड़ नौ लाख सिंचाई एवं स्वास्थ्य विभाग, 15 करोड़ विद्युत विभाग के अलावा छह करोड़ 56 लाख रुपए का नुकसान फसलों और कृषि योग्य भूमि का हुआ है। गौशालाओं और घरों को आंशिक नुकसान पहुंचने से 71 लाख 64 हजार रुपए की क्षति हुई है। सबसे ज्यादा नुकसान उपमंडल भोरंज में हुआ है तथा नुकसान कार्य पूर्ति के लिए लगभग 75 करोड़ रुपए की राशि की आवश्यकता है। इसी तरह जिला के अन्य क्षेत्रों में भी बाढ़-बरसात का कहर देखने को मिला था।

Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)