October 20, 2017

पालमपुर के थातरी में बादल फटा

पालमपुर — पालमपुर के करीब धौलाधार की पहाडि़यों पर बुधवार दोपहर बादल फटने से न्यूगल उफान पर आ गई। प्रशासन ने फौरी कदम उठाते हुए तमाम संवेदनशील क्षेत्रों को समय रहते खाली करवा दिया। बादल फटने की घटना से जान-माल के नुकसान का कोई समाचार नहीं मिला है। घटना बुधवार दोपहर 12 बजे के करीब की है जब पहाडि़यों पर हो रही मूसलाधार बारिश के बीच बादल फटने की सूचना प्रशासन को मिली। जानकारी के अनुसार यह घटना पहाडि़यों पर स्थित पुराने विंध्यावासिनी मंदिर के पीछे थातरी नाम की जगह की है। जहां बादल फटने की घटना पेश आई, वहां पर आसपास आबादी नहीं है और साथ लगते गांव के लोगों के अनुसार उस स्थान पर मवेशी ही छोड़े जाते हैं। इस कारण जान-माल का कोई नुकसान नहीं हुआ है। जानकारी के अनुसार बादल फटने की जानकारी वहां पर बन रहे एक प्रोजेक्ट के कर्मियों द्वारा ही प्रशासन को दी गई, जिसके बाद उपमंडल अधिकारी के नेतृत्व में प्रशासनिक अमला बंदला के लिए रवाना हो गया। बादल फटने से न्यूगल का जलस्तर बढ़ गया और पानी के साथ मलबा भी बहता दिखाई दिया। प्रशासन ने फौरी कदम उठाते हुए सौरभ वन विहार, मैंझा, परौर व न्यूगल के साथ लगते क्षेत्रों में अलर्ट जारी करते हुए तमाम क्षेत्रों को खाली करवा दिया। क्षेत्र के लोगों ने पानी के तेज बहाव में दो मवेशियों के बह जाने की बात कही है हालांकि इस बात की पुश्टि नहीं हो पाई है। पालमपुर प्रशासन द्वारा तमाम संबंधित विभागों को समय रहते प्रभावी कदम उठाने के निर्देष दिए जाने के बाद दमकल, नगर परिषद, वन विभाग हरकत में आ गए और न्यूगल खड्ड की सीमा से लोगों को दूर कर दिया गया। गौर रहे कि करीब चार साल पूर्व भी धौलाधार की पहाडि़यों पर बादल फटने की घटना हुई थी। एसडीएम पालमपुर भूपेंद्र अत्री ने कहा कि पहाडि़यों पर बादल फटने की सूचना मिलते ही प्रशासन हरकत में आ गया था और सारे क्षेत्र में समय रहते लोगों को न्यूगल खड्ड  के क्षेत्र से दूर कर दिया गया था।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *