Header ad
Header ad
Header ad

धर्मशाला में पर्यटकों को जगह जगह पार्किंग सुविधा के लिए सुधीर ने उठाए ठोस कदम

 धर्मशाला,(अरविन्द शर्मा )9 जुलाईdownload (1)

धर्मशाला में पर्यटकों को जगह जगह पार्किंग सुविधा के लिए सुधीर ने उठाए ठोस कदम

शीला चौक में 68 लाख की लागत से शॉपिंग कम्लैक्स का निर्माण कार्य शुरू

धरमसाला शहर में  10 किलोमीटर भूमिगत विजली की  तार डालने का कार्य भी जारी :सुधीर

 

पर्यटन की दृष्टि से धर्मशाला प्रदेश का एक मुख्य आकर्षण है। प्रतिवर्ष देश-विदेश से लाखों पर्यटक धर्मशाला आते हैं। पर्यटकों तथा स्थानीय जनता की सुविधा के लिए धर्मशाला नगर परिषद् के अंतर्गत कचैहरी अड्डा में पार्किंग के निर्माण हेतु 1.80 करोड़ रुपए स्वीकृत हो चुके हैं जबकि मैक्लोड़गंज में 5 करोड़ रुपए की लागत से पार्किंग का निर्माण किया जा रहा है।यह जानकारी देते हुए शहरी विकास, आवास एवं नगर नियोजन मंत्री, सुधीर शर्मा ने बताया कि इसके अतिरिक्त मैक्लोड़गंज तथा कोतवाली बाजार में सार्वजनिक पार्किंग का निर्माण निजी भागीदारी के अन्तर्गत किया जायेगा।

डल झील के विकास हेतु 20 लाख की लागत से कार्य किया जा रहा है जबकि अघंजर महादेव मंदिर के सौंदर्यकरण पर एक करोड़ रुपए व्यय किये जा रहे हैं जबकि हिमानी चामुण्डा मंदिर के लिए 20 लाख रुपए स्वीकृत किए गए हैं। इसके अतिरिक्त शिल्ला चौक में 68 लाख की लागत से शॉपिंग कम्लैक्स का निर्माण किया जा रहा है।

 सुधीर शर्मा ने बताया कि धौलाधार की गोद में बसा हुआ कांगड़ा जिला 5739 किलोमीटर वर्ग क्षेत्र में फैला हुआ है जिला की आबादी  प्रदेश का कुल आबादी का 10.31 प्रतिशत है। इसकी सीमाएं 6 जिलों तथा दो प्रदेशों से लगती हैं। वर्ष 2011 की जनगणना के मुताबिक कांगड़ा की जनसंख्या 1,507,223 है जिसमें 7,48,559 पुरूष तथा 7,58,664 महिलाएं हैं। सुधीर ने कहा की वह जिला के विकास को प्राथमिकता देते है I

 उन्होंने बताया कि क्षेत्र में विद्युत व्यवस्था को सुधारने पर विशेष बल दिया जा रहा है। शहरी क्षेत्र धर्मशाला व योल की विद्युत वितरण ढांचे के सुधार के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्र की विद्युत प्रणाली को सुदृढ़ करने के लिए राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना के अंतर्गत

एक वृहद योजना तैयार की गई है। धर्मशाला में 3 विद्युत उपमंडलों के 55 हजार से अधिक उपभोक्ताओं के लिए कम्प्यूट्रीकृत बिलिंग सुविधा उपलब्ध हो गई है। वित वर्ष 2013-14 के दौरान धर्मशाला क्षेत्र के अंतर्गत 86 नये ट्रांसफार्मर लगाये जा रहे हैं। त्वरित ऊर्जा विकास एवं सुधार कार्यकम्र

के तहत धर्मशाला और योल नगर में लगभग 24 किलोमीटर ओवर हैड तार डालने का कार्य प्रगति पर है तथा सघन आबादी वाले क्षेत्रों में तारों के जंजाल से मुक्ति के लिए 10 किलोमीटर भूमिगत तार डालने का कार्य भी जारी है। इसके अतिरिक्त 14 किलोमीटर उच्च वेग की पुरानी लाईनों को बदला जा रहा है। इस योजना के अंतर्गत ऊर्जा विकास एवं सुधार के अंतर्गत धर्मशाला व योल में कुल 1753 लाख रुपए व्यय किये जा रहे हैं। राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण 12वीं योजना में चामुण्डा में एक नया सब स्टेशन प्रस्तावित है तथा तोतारानी में सब स्टेशन की क्षमता बढ़ाई जा रही है।

शहरी विकास मंत्री ने बताया कि धर्मशाला में सड़कों के सुधार के विभिन्न कार्य प्रगति पर हैं। गगल-चैतड़ू-मैक्लोड़गंज-भागसूनाग सड़क के सुधार पर 10.02 करोड़ रुपए व्यय किये जा रहे हैं। इसके अतिरिक्त रामनगर-श्यामनगर एवं अन्य सड़कों के कंकरीट तथा सुधार हेतु 20.94 करोड़ रुपए व्यय किये जा रहे हैं।

 उन्होंने प्रदेश सरकार द्वारा विभिन्न वर्गों के कल्याण हेतु चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं जैसे राजीव गांधी अन्न योजना, राज्य खाद्यान्न उपदान योजना, सरकारी स्कूलों के बच्चों के लिए एचआरटीसी की बसों में निःशुल्क यात्रा सुविधा, प्रार्थियों को अपने दस्तावेज स्वयं सत्यापित करने की सुविधा, राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना, 108 राष्ट्रीय एम्बुलैंस सेवा, प्रदेश के चिकित्सालयों में 424 जेनेरिक औषधियां निःशुल्क उपलब्ध करवाने बारे, सामाजिक सुरक्षा पैंशन, मुख्यमंत्री कन्यादान योजना, अंतर्जातीय विवाह एवं विधवा पुनर्विवाह योजना, मुख्यमंत्री आदर्श कृषि गांव योजना, राज्य आवास योजनाओं की विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने बताया कि राज्य में महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए राज्य महिला कल्याण बोर्ड के गठन किया गया है। इसके अतिरिक्त भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड में पंजीकृत मजदूरों को इंडक्शन चूल्हा, साइकिल व सोलर लैम्प उपलब्ध करवाने के निर्णय तथा 775 गांवों को वन्य अभ्यारण्य क्षेत्र से बाहर किया गया है जिससे एक लाख से अधिक लोग लाभान्वित होंगे।

 सुधीर शर्मा ने बागवानी मिशन के अंतर्गत पुष्प व्यवसाय को बढ़ावा देने के लिए पुष्प पौधशाला महोग-बाग में मशीनीकरण, पुष्प पौधशाला परवाणु में भवनों में जल दोहन ढांचे एवं जल भंडारण टैंकों का निर्माण तथा धर्मशाला में टयूबवैल की स्थापना बारे जानकारी दी। उन्होंने बताया कि राज्य में औषधीय पौधों को बढ़ावा देने के लिए पौधशालाओं की स्थापना की जा रही है। औषधीय पौधों की खेती तथा तकनीकी सहायता प्रदान करने पर राष्ट्रीय पौध मिशन के अंतर्गत 33.78 लाख रुपए व्यय किए जा रहे हैं।

Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)