October 21, 2017

जुब्बल-कोटखाई मण्डल कांग्रेस नेताओं ने इस बात पर हैरानी जताई कि भाजपा नेता ने अपनी करारी हार के बावजूद भी कोई सबक नहीं लिया है

जुब्बल-कोटखाई मण्डल कांग्रेस के अध्यक्ष रमेश चैहान, वरिष्ठ उपाध्यक्ष ओम

प्रकाश रांटा, उपाध्यक्ष राम कृष्ण शर्मा, महासचिव जिया लाल चैहान, चतर सिंह,
रूपेन्द्र धांटा, राजेन्द्र सिंह एवं प्रताप चैहान तथा कोषाध्यक्ष हेत राम ने
ठियोग-हाटकोटी-रोहड़ू मार्ग को लेकर भाजपा नेता श्री नरेन्द्र बरागटा द्वारा
दूसरे चरण के अभियान को ‘असत्यग्रह-2’ करार दिया है। उन्होंने कहा कि अगर श्री
बरागटा ने इस सड़क मार्ग को लेकर राजनीति ही करनी है तो उन्हें ‘प्रायश्चित
यात्रा’ करनी चाहिए थी, क्योंकि नौटंकी, ड्रामेबाजी व भ्रामक बयानबाजी से उन्हें
कुछ भी हासिल नहीं होने वाला है।

जुब्बल-कोटखाई मण्डल कांग्रेस के इन नेताओं ने इस बात पर हैरानी जताई कि
भाजपा नेता ने अपनी करारी हार के बावजूद भी कोई सबक नहीं लिया है और झूठ
का सहारा लेकर पुनः राजनीतिक रोटियां सेंक रहे हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा
नेता का कहना है कि उन्होंने 80 किलोमीटर के इस मार्ग में करीब 137 जनसभाएं
कीं यानि हर चार किलोमीटर से कम दूरी पर उन्होंने जनसभाएं कीं और उनकी इस
पद्यात्रा में 57000 लोग शामिल हुए। उन्होंने कहा कि मुट्ठी भर लोगों को
लेकर उन्होंने यह ड्रामा शुरू किया, जिसमें भाजपा का एक धड़ा ही शामिल था
और यह पदयात्रा पूरी तरह फ्लाप साबित हुई। भ्रामक व गुमराहपूर्ण बयान देकर श्री
बरागटा क्या साबित करना चाहते हैं, यह समझ से परे है। श्री बरागटा हार के सदमे से
उभर नहीं पाए हैं, इसलिए वे पद यात्रा जैसे ड्रामे कर लोगों को गुमराह करने
का प्रयास कर रहे हैं। यदि वे वास्तव में सड़क की हालत से दुखी थे तो उन्हें
ठियोग-कोटखाई-हाटकोटी-रोहड़ू मार्ग से ही पद यात्रा करनी चाहिए थी परन्तु
भाजपा नेताओं ने पदयात्रा जानबूझ कर टिक्कर होते हुए निकाली।

उन्होंने कहा कि जहां तक स्वास्थ्य शिविरों के आयोजन का सवाल है, तो श्री
बरागटा को स्वयं इस बात की जानकारी देनी चाहिए कि पूर्व भाजपा कार्यकाल में
उनके पास पांच-पांच मंत्रालय थे और स्वास्थ्य मंत्री भी रहे। उन्होंने अपने
कार्यकाल में इस क्षेत्र में कितने स्वास्थ्य शिविर लगाए। जबकि वास्तविक स्थिति यह
थी कि क्षेत्र में डाक्टरों की भारी कमी थी और अन्य पैरा मेडिकल स्टाफ के लिए
लोग तरस गए थे।

इन नेताओं ने कहा कि इस सड़क मार्ग को लेकर वर्ष 2010 में जुब्बल निवासी द्वारा
हिमाचल प्रदेश के माननीय उच्च न्यायालय में पीआईएल दायर की थी। उस समय प्रदेश
में श्री प्रेम कुमार धूमल के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार थी और श्री बरागटा मंत्री
थे। यह आज भी माननीय उच्च न्यायालय में विचाराधीन है और अब तक इस मामले
में 17 से अधिक सुनवाइयां हो चुकी हैं।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार ने इस सड़क को राज्य उच्च मार्ग का दर्जा प्रदान
किया था, परन्तु भाजपा सरकार के भेदभावपूर्ण रवैये के कारण
ठियोग-कोटखाई-हाटकोटी सड़क को डिनोटिफाई कर जिला ग्रामीण सड़क की
श्रेणी में लाया गया। उस समय श्री बरागटा प्रदेश सरकार में बागवानी मंत्री थे,
उन्हें इसका जवाब देना चाहिए। गुम्मा स्थित कार्टन फैक्टरी को इन्हीं के कार्यकाल
में कबाड़ के भाव बेच दिया गया और इसके पश्चात् इसी स्थान पर जन्मदिन जैसा
उत्सव मनाया गया। सड़क की यह हालत थी कि वर्ष 2010 में एक साल में ही
बागवानों को 700 करोड़ रुपये का नुकसान हो गया। कई-कई दिनों तक सड़क बंद
रही और कई महत्वपूर्ण जानें गईं। बागवानों का सेब सड़क किनारे सड़ गया
और श्री बरागटा तो अपने विभाग का सेब भी नहीं उठा पाए। ऐसे अनेक आंकड़े
उपलब्ध हैं, जिनकी कांग्रेस राज से तुलना नहीं की जा सकती। इतना स्पष्ट है कि श्री
बरागटा अपने कार्यकाल में केवल बदला-बदली, भोले-भाले बागवानों को गुमराह
करने ओर शिगुफे छोड़ने के साथ-साथ कांग्रेस के कार्यों का श्रेय लेने में
ही समय पूरा करते रहे। पूरे पांच साल में इस सड़क का मात्र 10 प्रतिशत भी कार्य
नहीं किया गया, जो शर्मनाक है।

उन्होंने हैरानी जताई कि ऊना जिले के मेहतपुर-ऊना सड़क के निर्माण का कार्य
भी चीन की उसी कंपनी को आवंटित किया गया था जो ठियोग-कोटखाई-हाटकोटी
मार्ग का कार्य कर रही थी। लेकिन, उस मार्ग पर भाजपा नेतृत्व का हित था, इसलिए
बनकर तैयार हो गई लेकिन सेब उत्पादक क्षेत्र उपेक्षित रह गए। यह सब भाजपा के
शिमला के ऊपरी क्षेत्रों के प्रति द्वेषपूर्ण भावना को दर्शाता है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेतृत्व की प्रदेश सरकार इस सड़क के निर्माण के प्रति
वचनबद्ध है और यह कार्य तीन वर्षों में पूर्ण कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि
भाजपा का यह नाटक बेनकाब होगा और जो राजनीति भाजपा इस मार्ग को लेकर कर
रही है उसके लिए जनता उन्हें कभी माफ नहीं करेगी।

 

 

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *