Header ad
Header ad
Header ad

जन.संपर्क के बदलते प्रतिमान पर दो दिवसीय परिसंवाद

DSC_0018केन्द्रीय विश्वविद्यालय हिमाचल प्रदेश के पत्रकारिता एवं जनसंचार संकाय द्वारा 21 एवं 22 नवम्बर 2014 को दो दिवसीय परिसंवाद का आयोजन किया जा रहा है द्य ष्जन.संपर्क की वर्तमान प्रवृत्तियाँष् विषय पर आधारित इस परिसंवाद में बतौर वक्ता प्रोफेसर जयश्री जेठवानी की मौजूदगी महत्वपूर्ण रहेगी द्य जन.सम्पर्क के क्षेत्र में करीब दो दशकों से प्रोफेसर जेठवानी प्रतिष्ठित मीडिया अध्येता के तौर पर जानी जाती रही रही हैं द्य यही नहीं भारतभर में मीडियाकर्मियोंए मीडिया. अध्येताओंएबुद्धिजीवियों के साथ उन्होंने कई संगोष्ठियों एवं कार्यक्रमों का सार्थक आयोजन भी किया है द्य यह परिसंवाद पेशेवर मीडिया अध्येताओं के लिए ख़ासा महत्वपूर्ण है जिसे विश्वविद्यालय के अस्थाई शैक्षणिक खण्ड शाहपुर में आयोजित किया जा रहा है द्य
इस परिसंवाद का उदघाटन विश्वविद्यालय के माननीय कुलपति द्वारा किया गया द्य कुलपति प्रोफेसर योगिन्द्र सिंह वर्मा ने सर्वोच्च समावेशी शिक्षण के प्रति विश्वविद्यालय की प्रतिबद्धता को उजागर किया द्य यही नहीं शिक्षा के क्षेत्र में प्रत्येक विद्यार्थी की सामूहिक भागीदारी एवं सामुदायिक सहभागिता पर भी जोर दिया  इस परिसंवाद में विभिन्न विभागों के विद्यार्थियों एवं शोधार्थियों ने उत्साह पूर्वक प्रतिभाग किया द्य कार्यक्रम के पहले दिन मुख्य वक्ता के तौर पर प्रोफेसर जयश्री जेठवानी ने विद्यार्थियों को जनदृसंपर्क की अवधारणाए सामाजिक सम्प्रेषणए सामाजिक विपणन आदि से अवगत कराया द्य यही नहीं संकटकालीन सम्प्रेषण आदि को मौलिक व्यावहारिक अभ्यास पद्धतियों एवं अनुकरण पद्धतियोंएसामूहिक चर्चा.परिचर्चाए बहुउद्देशीय उपकरणों आदि के जरिए आसान बनाया द्य उन्होंने कहा कि दृ श् किसी भी प्रकार का प्रचार अच्छा नहीं होता लेकिन बुरा प्रचार हमेशा बुरा होता है द्यश् उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि अभिव्यक्ति.प्रसार एवं जानकारी.विस्तार के इस युग में जन.संपर्क प्रशिक्षुओं का कर्म कहीं अधिक उत्तरदायित्वपूर्ण है
अपने व्याख्यान के दौरान उन्होंने विभिन्न टूल्स एवं उपकरणों पर जोर दिया जो जन.सम्पर्क प्रशिक्षुओं के लिए मददगार साबित हो सकते हैं द्य परिसंवाद का उपसंहार संयोजक के आभार.ज्ञापन से हुआ

Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

 Click this button or press Ctrl+G to toggle between multilang and English

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *