Header ad
Header ad
Header ad

गुप्त नवरात्रों के संचालन के लिए प्रशासन ने किए पुख्ता प्रबन्ध-उपायुक्त।

धर्मशाला, 19 जुलाई: गुप्त नवरात्रों के सुचारु संचालन के लिए सभी प्रबन्ध
पूर्ण कर लिए गए हैं। यह जानकारी देते हुए उपायुक्त रितेश चौहान ने बताया कि
अपनी ऐतिहासिक पृष्टभूमि, नैसर्गिक सौदंर्य, पर्यटन एवं  धार्मिक महत्व के
कारण विश्व विख्यात कांगड़ा घाटी में वर्ष भर राज्य व बाहरी राज्यों के
अतिरिक्त विदेशी पर्यटकों एवं श्रद्धालुओं की आवाजाही लगी रहती है। श्रावण माह
के धार्मिक पर्वों तथा गुप्त नवरात्रों में पर्यटकों एवं श्रद्धालुओं की
संख्या में अत्यधिक बढ़ौतरी की सम्भावनाओं को देखते हुए प्रशासन ने सभी
तैयारियां पूर्ण कर ली हैं। आगंतुकों को  किसी भी प्रकार की कठिनाइयों का
सामना ना करना पडे इसके लिए प्रशासन द्वारा व्यापक प्रबन्ध पुख्ता कर लिए गए
हैं।
        उन्होंने कहा कि श्रावण पर्व तथा गुप्त नवरात्रों के सफल आयोजन के लिए
क्षेत्र के सम्बन्धित उपमण्डल अधिकारी ना0 पूर्ण सर्तकता से व्यवस्था को
सुचारु बनाने में प्रयासरत हैं जबकि पुलिस, स्वास्थ्य, लोक निर्माण, सिंचाई
एवं जन स्वास्थ्य, गृह रक्षा, परिवहन, विद्युत, इत्यादि सम्बन्धित विभाग
पर्यटकों एवं श्रद्धालुुओं को हर सम्भव सहायता एवं सुविधा उपलब्ध करवाने के
लिए तत्पर रहेगें।
        उपायुक्त रितेश चौहान ने स्थानीय व बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं से
आग्रह किया है कि इस विशेष पर्व के दौरान स्थानीय प्रशासन, मंदिर समितियों व
धार्मिक स्थलों के स्वयंसेवी श्रद्धालुओं को व्यवस्था बनाये रखने में अपना
सहयोग दें। उन्होंने कहा कि बरसात के मौसम के मद्दे नजर अपने वाहनों की गति
नियन्त्रण में रखें तथा किसी भी दशा में वाहनों में क्षमता से अधिक लोगों को न
भरें। यातायात नियमों का शक्ति से पालन करें ताकि दुर्धटनाओं तथा अनावश्यक जाम
से बचा जा सकें। दोपहिया वाहन चालकों को हैलमेट पहनने की अनिवार्यता पर बल
देते हुए उन्होंने श्रद्धालुओं से आग्रह किया कि धुन्ध व बारिश की अवस्था में
नालों अथवा नदियों के समीप न जायें भूस्लखन के सम्भावित स्थलों के समीप पड़ाव न
डालें और स्वच्छता का विशेष ध्यान रखें।
        उन्होंने श्रद्धालुओं से अपने सामान तथा बच्चों को अकेले न छोडने का
आग्रह करते हुए कहा कि किसी भी अनजान व्यक्ति पर भरोसा न करें तथा अपने
खान-पान पर विशेष एतियात बरतें ताकि किसी भी प्रकार की अनहोनी से बचा जा सकें।
        उपायुक्त ने श्रद्धालुओं से आग्रह किया है कि प्रसिद्ध मंदिरों,
देवालयों व शक्तिपीठों में दर्शन, पूजा अर्चना अथवा मंदिर परिक्रमा के समय
धक्का-मुक्की न करें तथा श्रद्धापूर्वक पंक्तिबद्ध हो कर भक्ति भाव से दर्शन
करते हुए व्यवस्था को सचारु बनाने में सहयोग दें। उन्होंने श्रद्धालुओं को
परामर्श दिया है कि वह जिला की भौगोलिक अवस्था केे अनुरुप अपने वस्त्र साथ
लाएं तथा किसी भी प्रकार से अस्वस्थ होने की दशा में समीप के चिकित्सा केन्द्र
से निदान करवायें।
        उपायुक्त रितेश चौहान ने श्रद्धालुओं एवं पर्यटकों को सचेत करते हुए
कहा कि वह अपनी यात्रा के दौरान किसी भी प्रकार की अफवाहों पर ध्यान न दें तथा
किसी भी प्रकार की कठिनाई के समय स्थानीय प्रशासन को सूचित करें।
Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)