Header ad
Header ad
Header ad

कोलंग पंचायत में बादल फटने से 50 करोड़ की सरकारी व निजि सम्पति तबाह , माकपा व हिमाचल किसान सभा की संयुक्त टीम ने किया प्रभावित गॉंवों का दौरा

मंडी, 15 जुलाई (पुंछी) :जिला मंडी की कोलंग पंचायत में हाल ही में बादल फटने से मची तबाही का जायजा लेने के लिए माक्र्सवादी कम्युनिष्ट पार्टी व हिमाचल किसान सभा की एक संयुक्त टीम ने माकपा के राज्य सचिवालय सदस्य कुशाल भारद्वाज के नेतृत्व में सोमवार को प्रभावित गॉंवों का दौरा किया। माकपा व किसान सभा की टीम ने इस भयंकर त्रासदी से हुई भारी तबाही का जायजा लिया तथा प्रभावितों से बातचीत करते हुए उन्हें ढॉंढस बंधाया व गॉंव के पुनर्निर्माण व सभी प्रभावितों को उचित मुआवजा दिलाने के लिए हरसंभव कोशिश करने का भरोसा भी दिलाया। माकपा के राज्य सचिवालय सदस्य कुशाल भारद्वाज ने बताया कि गनीमत है कि इस त्रासदी में किसी की जान नहीं गई, लेकिन जोगिन्दर नगर विधान सभा क्षेत्र में इतनी भयंकर तबाही इससे पहले कभी देखने को नहीं मिली थी। उन्होंने कहा कि हालांकि स्थानीय प्रशासन अधिकारियों, स्थानीय विधायक व कुछ अन्य राजनेताओं ने भी गॉंव का दौरा किया, लेकिन पूरी तबाही का जायजा लेने के बजाए एक-आधे परिवार को फौरी राहत के रूप में कुछ हजार रूपये थमाकर सबने अपनी हाजिरी लगाने की औपचारिकता पूरी कर ली। उन्होंने कहा कि आसमान से आई इस आफत के चलते इस पंचायत में लगभग 50 करोड़ की सरकारी व निजि सम्पति तबाह हो गई है। उन्होंने कहा कि यदि जल्दी ही पुनर्निर्माण कार्य आरम्भ नहीं किये गये तो कोलंग पंचायत में हालात और भी खराब हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि कोलंग के कालीदास की दो कमरों वाली दुकान, एक पोल्ट्री फार्म का नामोंनिशान मिट गया है, तो वहीं घर की दीवारें व नींव दरक गई हैं और शौचालय का सेटी टैंक व कुछ खेत भी बा$ढ में बह गये हैं। उन्होंने कहा कि अकेले कालीदास का ही 12 लाख से भी अधिक का नुकसान हुआ है और साथ ही पूरे मकान के लिए भी खतरा पैदा हो गया है। कालीदास के परिवार को घर छो$डकर पुराने मकान में शरण लेनी प$ड रही है। इसी प्रकार पंचायत के पूर्व प्रधान राजमल के मकान में भी पानी व मलबा घुस जाने व मकान को खतरा मंडराने से उनका परिवार कलैह$डू गॉंव में अपने रिश्तेदारों के घर में रहने को मजबूर हुआ है। गॉंव के ही ठाकर सिंह के मकान को भी खतरा मंडरा रहा है तथा वे भी परिवार सहित दूसरी जगह रहने को मजबूर हो रहे हैं। उन्होंने बताया कि गॉंव के ही सुरेश कुमार व किशन व अन्य परिवार के तीन घराट पूरी तरह तबाह हो चुके हैं। इसके अलावा प्रकाश व प्रताप की गौशालाओं के लिए भी खतरा पैदा हो गया है। कुशाल भारद्वाज ने कहा कि गॉंव के सभी रास्ते, एक पुली, दो बाव$िडयां, पानी की पाइपें, एक हैंड पम्प तथा सिंचाई व घराट की कूहलें भी पूरी तरह से तबाह हो चुकी हैं। खद्दर पंचायत के लिए पानी की सप्लाई भी बुरी तरह से प्रभावित हुई है। उन्होंने कहा कि कोलंग गॉंव के भीम सिंह, कालीदास, गुलाब सिंह, ज्ञान चंद, राजमल, प्रताप सिंह व प्रकाश चंद के खेत तबाह हो गये हैं, वहीं कलैह$डू गॉंव के शुक्रू राम, प्रेम सिंह, दान सिंह, ज्ञान चंद, बलदेव, पाल सिंह, पान सिंह, जोगिन्दर, कृष्ण चंद, उमदा राम तथा दौलत राम के खेत बह गये हैं। रांग$डा सरहूण गॉंव के प्यार चंद, लाल चंद, भागमल, किशन, दान सिंह, प्रेम सिंह, विजय कुमार, बालम राम, राजकुमार, भाग सिंह, मोहन सिंह, खेम चंद, ओम चंद, दलीप सिंह, सोहन सिंह, बलदेव व रूप सिंह तथा भरगाईं सरहूण गॉंव के रोशन लाल, अमी चंद, ज्ञानचंद, अच्छरू राम, सोहन सिंह, भादर सिंह, शेर सिंह, प्रेम सिंह, प्रताप सिंह, बालम राम, ठाकर सिंह, व स्वामी राम के खेत या तो भारी बाढ में बह गये हैं या फिर मलबे व चट्टानों के ढेर में तबदील हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि उपरोक्त गॉंवों के किसानों की घासणियां भी बा$ढ में तबाह हो गई हैं। इसके अलावा तुहनी, बॉंस, ब्यूहल, कराले व सफेदा सहित सैंक$डों पे$ड भी बह गये हैं। कुछ किसानों के केले के पौधे भी पूरी तरह से नष्ट हो गये तथा धान व मक्की की फसल पूरी की पूरी तबाह हो चुकी है। इसके अलावा कोलंग स्थित सरकारी स्कूल के दो कमरे व कमरों में रखा लाखों का सामान पूरी तरह बा$ढ में बह गये हैं। स्कूल के लिए जाने वाले रास्ते व गॉंवों को जो$डने वाले कई रास्तों का नामोंनिशान मिट चुका है। कुशाल भारद्वाज ने प्रदेश सरकार से मांग की कि कोलंग पंचायत में हुई भारी तबाही को गंभीरता से ले तथा उपरोक्त गॉंवों के सभी प्रभावितों को तुरंत फौरी आर्थिक व दूसरी मदद दी जाए। इसके साथ-साथ हर प्रकार के नुकसान का सही-सही आकलन कर प्रभावितों को उचित मुआवजा दिया जाए। उन्होंने उपायुक्त मंडी से भी मांग की कि वे स्वयं प्रभावित पंचायत का दौरा कर स्थिति का जायजा लें। उन्होंने प्रभावित क्षेत्र में हर तरह के पुननिर्माण कार्यों को शीघ्र शुरू करने के लिए 50 करो$ड रूपये के राहत पैकेज की भी मांग की है। उन्होंने कहा कि यदि जल्दी ही पुननिर्माण कार्य आरम्भ नहीं हुए तो आने वाले दिनों में भूमि कटाव से और नुकसान हो सकता है। इस टीम में माकपा की जोगिन्दर नगर क्षेत्रीय कमेटी के सदस्य व हिमाचल किसान सभा की लडभ$डोल तहसील कमेटी के प्रधान टेक सिंह, रणजीत राणा, सुनिल बरवाल, बुद्घि सिंह, राजन के अलावा खद्दर-कोलंग से बीडीसी सदस्या सरला देवी व कुछ अन्य पंचायत प्रतिनिधि भी शामिल थे।

Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

 Click this button or press Ctrl+G to toggle between multilang and English

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *