Header ad
Header ad
Header ad

आनी क्षेत्र में बिजली की आंख मिचौनी से लोग परेशान

2 June_Anni.1_Electric Cut

आनी, 3 जून – ग्रामीण क्षेत्रों में बच्चे मोमबती के सहारे पढऩे को मजबूर पांच सालों से भी ज्यादा समय से वैक्यूमर सर्किट ब्रेकर के खराब पड़े रहने के कारण आ रही दिक्क्त 6 फिडरों में से किसी एक के खराब होने पर पूरे क्षेत्र में पसरा रहता है अंधेरा आनी। विद्युत मंडल आनी के अंतर्गत पिछले काफी समय से बिजली के अघोषित कट लगना आम बात है। जिसके कारण विद्वुत राज्य हिमाचल के आनी क्षेत्र में 21वीं शताब्दी में भी मोमबती की लौ का सहार लेना पड़ रहा है। आये दिन क्षेत्र में 20 से 50 या इससे भी ज्यादा कट लगते हैं। जिसके कारण क्षेत्र की जनता को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। इतना ही नहीं कस्बे सहित ग्रामीण क्षेत्रों में बच्चों को मोमबती के सहारे पढऩे को मजबूर होना पड़ रहा है। क्षेत्र की जनता द्वारा सैंकड़ों बार बदहाल बिजली व्यव्स्था को सुधारने की मांग की जाती रही है,  लेकिन विद्युत अव्यव्स्था बरकरार है। सही मायनों में तो पिछले कई वर्षों से क्षेत्र में बिजली की सप्लाई बदहाल है।  वैक्यूमर सर्किट ब्रेकर (वीसीबी) पांच से भी ज्यादा सालों से है खराब  जानकारी के अनुसार आनी के कंट्रोल कक्ष में वैक्यूमर सर्किट ब्रेकर (वीसीबी) के पांच से भी ज्यादा सालों से खराब पड़ा है। वीसीबी के खराब रहने के कारण आनी विद्युत उपमंडल के तहत आने वाले आनी, चवाई ,दलाश, शवाड, खनाग और देवरी के अलावा छतरी विद्युत उपमंडल आदि 6 फिडरों के करीब 200 ट्रांस्फार्मरों से लाभांवित होने वाले हजारों लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। क्या करता है वीसीबी? कंट्रोल रूम में लगा वीसीबी किसी एक फिडर की किसी एक ट्रांसफार्मर की किसी भी लाईन में खराबी आ जाने पर उसी फिडर को डिस्कोनैक्ट कर देता है। जिसके कारण बाकि का क्षेत्र प्रभावित नहीं होता। लेकिन वीसीबी के खराब रहने के कारण किसी भी लाईन में मामूली सी खराबी आने पर आनी को नियंत्रित सप्लाई देने वाले 66 केवी के कुमारसैन सबस्टैशन से बिजली कट जाती है और आनी, चवाई, दलाश, शवाड, खनाग, देवरी के छतरी क्षेत्र में विद्युत सप्लाई बाधित रहती है। ब्यान रामपुर सर्कल के अंतर्गत आने वाले आनी के अलावा कई अन्य विद्युत मंडलों में भी वीसीबी की खराबी के कारण यह समस्या है। इन खराब ब्रेकरों को ठीक करने के लिये इन्हें इंस्टॉल करने वाली बैंगलोर की कम्पनी को इन खराब ब्रेकरों को ठीक करने को कहा गया है। उम्मीद है समस्या जल्द दुरूस्त हो जायेगी।

Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)