Header ad
Header ad
Header ad

18 जनवरी को 40,613 बच्चों को जीवन रक्षक बूद पिलाई जाएगी:डीसी रोहन चंद ठाकुर

हमीरपुर, 3 जनवरी, वर्ष 2015 में प्लस पोलियो उन्मूलन अभियान के प्रथम चरण में  18 जनवरी को
प्लस पोलियो प्रतिरक्षण दवाई पिलाई जाएगी।  प्रथम चरण में 0 से 5 वर्ष के लगभग
40,613 बच्चों का दवाई पिलाने के लिये ग्रामीण क्षेत्रों में 264 तथा शहरी
क्षेत्रों में 18 बूथ स्थापित किये जाएंगे। इस अभियान में 56 सुपरवाईजर तथा
1128 कर्मचारियों  को तैनात किया जाएगा ताकि कोई भी बच्चा पोलियो की दवाई से
बंचित न रहे। उन्होंने बताया गत वर्ष अभियान के दूसरे चरण में 40,294 बच्चों
को दवाई पिलाई गई थी। यह जानकारी उपायुक्त रोहन चंद ठाकुर ने आज जिला में प्लस
पोलियो अभियान को सफल तथा सुचारू ढंग से सम्पन्न करवाने के लिये स्वास्थ्य
विभाग द्वारा किये जा रहे प्रबन्धों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए दी।
उन्होंने बताया कि जिला कार्यक्रम अधिकारी के अतिरिक्त जिला में समस्त वाल
विकास परियोजना अधिकारी इसमें आवश्यक सहयोग देंगे। उन्होंने बताया कि इस दौरान
8 ट्रंाजिट दलों तथा 17 मोवाईल टीमों का विशेष गठन किया गया है ताकि कोई भी
बच्चा दवाई पीने से बंचित न रह जाए। उपायुक्त ने शिक्षा विभाग को भी निर्देश
दिये कि सभी स्कूलों में प्रात:कालीन सभा में इस अभियान के बारे बच्चों को
जागरूक करें ताकि इस अभियान की जानकारी हर गांव -घर तक पहुंच सके।  उन्होंने
बताया कि लोगों को जागरूक करने के लिये 17 जनवरी तक जागरूकता रैलियां भी
निकाली जाएंगी।
इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी पीआर कटवाल लोगों को अपने बच्चों को पोलियो
बूथ तक  लाने की अपील करते हुए कहा कि प्लस पोलियो कार्यक्रम की सफलता लोगों
के  सहयोग पर निर्भर करती है। उन्होंने कहा कि पोलियो से बच्चों का जीवन
कष्टमयी न हो इसलिये लोगों को 0 से 5 वर्ष तक के अपने बच्चों को जीवन सुरक्षा
चक्र के घेरे में लाने हेतू 18 जनवरी को पोलियो की दवाई अवश्य पिलायें।
उन्होंने सभी पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधियों और स्वयं सेवी संस्थाओं से
भी अपील करते हुए आग्रह किया है कि इस दिन पोलियों की दवाई पिलाने के लिये
जागरूक करें। उन्होंने कहा कि ''सुरक्षा चक्र को बनाये रखना है और इसे टूटने
नहीं देना है। 
इस अवसर पर चिकित्सा अधिकारी डॉ पीआर कटवाल ने बताया कि जिला में  प्रवासी
मज़दूरों जो झुगी-झोपडिय़ों,ईट तथा विभिन्न क्षेत्रों चल रहे निर्माण
कार्य स्थलों पर काम करते अथवा रहते हैं के अतिरिक्त घुमन्तु लोगों के बच्चों
को भी शतप्रतिशत पोलियो प्रतिरक्षण की बूंद पिलाने की परिधि में लाने के लिये
17 टीमोंं का गठन किया है। उन्होंने बताया ऐसे प्रवासियों के जिला के छ: विकास
खण्डों में उच्च जोखिम क्षेत्र (एचआरए)चिन्हित किये गये हैं जिनमें 1569
परिवारों के 0-5 वर्ष आयु के  बच्चों को दवाई पिलाने जाएगी।
इस अवसर पर एसएमओ संजय जगोता,  परियोजना अधिकारीआईसीडीएस श्रीकण्ठ चौधरी, उप
निदेशक उच्च शिक्षा सोमदत्त संख्यान,  प्रारम्भिक शिक्षा से रेणू कौशल, समस्त
बीएमओ तथा सीडीपीओ उपस्थित थे।
Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)