October 20, 2017

हिमाचल में बांग्लादेशियों की घुसपैठ

rr
शिमला, हिमाचल के सीमांत क्षेत्रों में मजदूरी के नाम पर बांग्लादेशियों की घुसपैठ हो रही है और यह घुसपैठ शांत प्रदेश पर भारी पड़ सकती है। हिमालय ध्वनि की सह संपादक रजनी ठुकराल ने कहा कि विश्व हिंदू परिषद ने पिछले दिनों ही समाचार पत्रों के माध्यम से राज्य सरकार व प्रशासन को हिमाचल में बांग्लादेशी घुसपैठ, लव जेहाद व धर्मांतरण का मुद्दा उठाया था। इसका ताजा उदाहरण शुक्रवार को देखने को मिला जब मंडी के नेरचौक में प्रवासी मजदूरों द्वारा पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे व हिंदुओं को उनके अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहने को कहा गया है। हिमाचल के सीमांत क्षेत्रों एवं अन्य जिलों में भी इन अवैध बांग्लादेशी घुसपैठियों की बड़ी संख्या है, जो मजदूरी के नाम पर यहां रह रहे हैं और कभी भी बड़ी घटना को अंजाम दे सकते हैं। बस अड्डे के आसपास, पुलों के नजदीक, शहर के बीचोंबीच, अस्पतालों के आस-पास तथा रेलवे स्टेशन के नजदीक ये लोग डेरा डाले हुए हैं। दुर्भाग्य की बात है कि प्रशासन के पास इनकी कोई जानकारी ही नहीं है। शिमला से जारी प्रेस वक्तव्य में उन्होंने प्रदेश के डीजीपी से अवैध घुसपैठ को रोकने की अपील की। उन्होंने कहा कि प्रशासन को अभी तक पता ही नहीं है कि हिमाचल की कितनी लड़कियां लव जेहाद का शिकार हो गईं और कितने ईसाई धर्मांतरण में लगे हुए हैं। रामपुर में चुने हुए प्रतिनिधि द्वारा धर्मांतरण का विषय उठाना इसका ताजा उदाहरण है कि मुख्यमंत्री के गृह क्षेत्र में ही अधिक संख्यां में धर्मांतरण हो रहा है। रजनी ठुकराल ने कहा कि कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता नरेश चौहान का यह बयान बड़ा हास्यास्पद है कि उनको या प्रदेश सरकार को प्रदेश में लव जिहाद या धर्मांतरण की कोई जानकारी नहीं है। उनको लगता है कि लव जिहाद और धर्मांतरण के खिलाफ आवाज उठाने वाले पब्लिक स्टंट कर रहे हैं।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *