Header ad
Header ad
Header ad

हिमाचल क्रिकेट संघ लगातार उलझनों में फंसता जा रहा है …सरकार का घेरा होता जा रहा है जटिल

स्टेडियम के लिए मुख्य मार्ग को लेकर शिक्षण संस्थाओं ने उठाये विरोधी सुर
धर्मशाला (अरविन्द शर्मा )
पूर्व मुख्मंत्री पुत्र अनुराग ठाकुर जो गत 13 वर्ष से हिमाचल क्रिकेट की लगाम थाम इसे बिना रुकावट और विरोध के हांके चले जा रहे थे I इस बीच 2003 में उनके पिता की सरकार हार गयी तो भी कांग्रेस लाख चाहते हुए भी ठाकुर के क्रिकेट के किले में सेंध न लगा सके I इसका कारण ठाकुर द्वारा संघ के निर्माण में कोइ हल्का कोना न छोड़ना था I हालांकि प्रदेश में क्रिकेट के जानकार मानते रहे की उनका क्रिकेट संघ पर कब्जा खेल नियमों की धाराओं को अपने तरीके से ढाल कर किया गया था, ताकि इसमें ताउम्र कोइ और अपना प्रभुत्व ना जमा पाए I वीर भद्र सिंह नेत्रित्व वाली मौजूदा सरकार इस बार लगता है की पक्के पैरों से इस कार्य को कारने के इरादे से आगे आयी है Iहिमाचल सरकार धीरे धीरे पर मजबूती से अनुराग के क्रिकेट चक्र्वियुह को भेदने में लगि है I और गत 10 माह में काफी हद तक धूमल पुत्र को घेरने में कामयाब भी रही है I हिमाचल क्रिकेट संघ सोसाईटी से इसे कम्पनी में बदलने बाली कदम में पूरी तरह सरकार घेरे में आ चुकी है, तथा नित नयी उलझनों में फंसी चली जा रही है I वर्तमान समय में राजनीतिक दल क्रिकेट को लेकर सियासी पारी खेलने में व्यस्त हैं। फिर बात प्रदेश सरकार की हो या विपक्ष की।
एचपीसीए विवाद को लेकर दोनों प्रमुख पार्टियों में मैच शुरू हो गया है। इसी उठापटक के बीच स्टेडियम से जुड़ा हुआ एक और विवाद सामने आ गया है। हिमाचल प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के धर्मशाला स्टेडियम को जाने वाली सड़क के रास्ते को लेकर विवाद शुरू हो गया है। धर्मशाला में शैक्षणिक स्थलों के बीचोंबीच अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम बनाया गया है। इतना ही नहीं, स्टेडियम के लिए मुख्य मार्ग बीएड कालेज धर्मशाला, जिला शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान डाइट व इनके गर्ल्ज होस्टल सहित पीजी कालेज धर्मशाला के कन्या छात्रावास के बीच में से गुजरता है। ऐसे में बीएड कालेज प्रशासन सहित गर्ल्ज होस्टल द्वारा सड़क को लेकर आपत्ति जताई जा रही है। इतना ही नहीं, प्रदेश सरकार से मार्ग को बदलने की मांग भी उठाई जा रही है। गौरतलब है कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में हर वर्ष राष्ट्रीय से अंतरराष्ट्रीय स्तर के मैच खेले जाते हैं। ऐेसे में मुख्य सड़क पर पूरी तरह से ट्रैफिक जाम व लोगों का जमावड़ा लगा रहता है, इस कारण स्कूली छात्रों के साथ-साथ छात्रावास में रह रही छात्राओं को भी परेशानियां झेलनी पड़ती हैं। इतना ही नहीं, उक्त स्थल धर्मशाला के पर्यटनस्थल के रूप में भी अपनी पहचान बना चुका है। ऐसे में देश-विदेश से आने वाले हजारों पर्यटकों के लिए उक्त मार्ग को ही एचपीसीए द्वारा खोला जाता है, जबकि गेट नंबर एक से पर्यटकों को कोई भी एंट्री नहीं दी जाती है। इस बारे में बीएड कालेज प्रिंसीपल अजय लखनपाल का कहना है कि सरकार से मार्ग को बदलने की मांग की गई है, ताकि छात्रों को परेशानियां न झेलनी पड़ें।

Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)