Header ad
Header ad
Header ad

सामुदायिक महाविद्यालय सभी के लिए बेहतर शिक्षा का साधन: डाॅ. शांडिल

456Solan 04.10.2015: सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री डाॅ. कर्नल धनीराम शांडिल ने कहा कि हिमाचल

जैसे राज्य के दूरदराज एवं दुर्गम क्षेत्रों में गुणात्मक शिक्षा उपलब्ध करवाने
में सामुदायिक महाविद्यालय प्रदेश सरकार के प्रयासों को सम्बल प्रदान कर सकते
हैं। डाॅ. शांडिल आज यहां एमएस पंवार सामुदायिक एवं तकनीकी काॅलेज में
आयोजित राष्ट्रीय कार्यशाला के समापन समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। यह
दो दिवसीय कार्यशाला ‘काम्युनिटी काॅलेजिज एज एन अल्टरनेटिव मोड आफ
एजुकेशन-ए वे अहेड’ विषय पर आयोजित की गई।

डाॅ. शांडिल ने कहा कि भारत विशेषकर उत्तर भारत में समाज के कमजोर वर्गों
तक शिक्षा के व्यापक लाभ पहुंचाने के लिए सामुदायिक महाविद्यालयों का होना
आवश्यक है। उन्होंने कहा कि इस दिशा में सभी को मिलकर प्रयास करने होंगे।
आज के वैश्वीकरण, उदारीकरण और सूचना प्रौद्योगिकी के युग में यह आवश्यक है
कि सभी को गुणवत्तायुक्त शिक्षा उपलब्ध हो ताकि छात्रों को प्रतिस्पर्धात्मक
रोज़गार उपलब्ध हो सके। उन्होंने कहा कि शिक्षा के माध्यम से युवाओं को
व्यवसाय चुन्ने में सहायता मिलनी चाहिए।

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री ने कहा कि सामुदायिक महाविद्यालयों की
अवधारणा समाज के कमजोर वर्गों की प्रतिभाओं को सामने लाने में सहायक सिद्ध
हो सकती है। इसके माध्यम से युवाओं को लाभप्रद रोज़गार भी उपलब्ध हो
सकता है। उन्होंने कहा कि विदेशों विशेषकर संयुक्त राज्य अमेरिका एवं कुछ
यूरोपीय देशों में सामुदायिक महाविद्यालय विशेष रूप से लाभदायक सिद्ध हुए
हैं। उन्होंने कहा कि सामुदायिक महाविद्यालयों को कृषि एवं विपणन जैसे
क्षेत्रों के विशेषज्ञों को अपने साथ शामिल करना चाहिए ताकि युवाओं को
सही दिशा में व्यवसायिक शिक्षा प्रदान की जा सके।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ऐसे महाविद्यालयों के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण
रखती है और इस दिशा में ऐसे संस्थानों को पूर्ण सहयोग प्रदान किया
जाएगा।

संस्थान के अध्यक्ष डाॅ. बी.एस. पंवार ने इस अवसर पर सामुदायिक महाविद्यालयों की
अवधारणा पर एक प्रस्तुतीकरण दिया। उन्होंने कहा कि इस कार्यशाला में संयुक्त
राज्य अमेरिका से भी शिक्षाविद भाग ले रहे हैं।

संस्थान के डीन प्रो. टी.डी. वर्मा ने मुख्यातिथि का स्वागत किया और इस
कार्यशाला की विस्तृत जानकारी प्रदान की। उन्होंने कहा कि 10वीं एवं 11वीं
पंचवर्षीय योजना में सामुदायिक महाविद्यालय की अवधारणा एवं उसके लाभ पर
विस्तृत प्रकाश डाला गया है।

संस्थान की प्रधानाचार्य ललिता पंवार ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया। इस अवसर
पर जि़ला कांग्रेस समिति के प्रवक्ता जगमोहन मल्होत्रा, सदस्य अजय कंवर, जि़ला
महिला कांग्रेस की उपाध्यक्ष ज्योत्सना ठाकुर, मंजू गौड़, प्रदेश भाषा, कला एवं
संस्कृत अकादमी के सदस्य मदन हिमाचली, जि़ला सिरमौर की राजगढ़ की खण्ड विकास
समिति की पूर्व अध्यक्ष गीता ठाकुर, खण्ड कांग्रेस समिति के महासचिव रोहित शर्मा,
आईटीआई सोलन के प्रधानाचार्य शिवेन्द्र डोगर, जि़ला कांग्रेस समिति सोशल
मीडिया के संयोजक मुकेश शर्मा, समाजसेवी विनोद गुप्ता एवं एम.एल. गर्ग, उप
निदेशक उच्च शिक्षा जीवन शर्मा, दिल्ली विश्व विद्यालय के भौतिकी विज्ञान की
प्रोफेसर डाॅ. ममता भाटिया, प्रदेश के विभिन्न विश्वविद्यालय के प्रधानाचार्य,
विभिन्न महाविद्यालयों के प्रवक्ता एवं छात्र इस अवसर पर उपस्थित थे।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)