Header ad
Header ad
Header ad

शैक्षणिक संस्थानों में नहीं होंगी चुनावी रैली

DC Sh.C Palrasu holding   meeting with standing commitee and political parties (1)

धर्मशाला 6 मार्च: सभी राजनीतिक दल आदर्श चुनाव आचार संहिता के प्रावधानोें के अनुरूप ही अपने घोषणा पत्र जारी करें और मतदाताओं को प्रभावित करने के लिये अनुचित तरीके न अपनायें। यह बात उपायुक्त एवं जिला निर्वाचन अधिकारी सी पालरासू ने आज लोकसभा चुनाव-2014 के आयोजन हेतु राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों व स्टैंडिग कमेटी के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की अध्यक्षता करते हुये दी। उन्होंने कहा कि भारतीय चुनाव आयोग ने इस सम्बन्ध में विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किया हैं। उन्होंने कहा कि प्रावधानों के अनुसार राजनीतिक दल या उम्मीदवार वायदा करते समय उनका तर्कपूर्ण औचित्य समझायेंगे और विस्तार से इस सम्बन्ध में बतायेंगे कि इन वायदों को पूर्ण करने के लिये वित्त किस प्रकार जुटाया जायेगा। उन्होंने कहा कि मतदाताओं का विश्वास सिर्फ उन वायदों के आधार पर मांगा जाना चाहिये जिन्हें पूरा किया जा सकता हो और चुनावी घोषणापत्र में संविधान के आदर्शों और सिद्धातों के विरूद्ध कुछ नहीं होना चाहिये। उन्होंने कहा कि घोषणापत्र से किसी धर्म, समुदाय या जाति विशेष में कटुता या द्वेष फैलाने वाली बातें न कहीं जायें। उपायुक्त ने कहा कि कोई भी पार्टी या उम्मीदवार किसी की निजी सम्पत्ति या दीवारों आदि पर सम्पत्ति के मालिक की अनुमति के बिना बैनर या नोटिस इत्यादि चस्पा नहीं करेगा। उन्होंने कहा कि समस्त उम्मीवार यह सुनिश्चित करेंगे की उनकी पार्टी के कार्यकर्ता किसी दूसरी पार्टी के उम्मीदवार की बैठक या अन्य कार्यक्रम में किसी प्रकार का व्यवधान उत्पन्न नहीं करेंगे। सी पालरासू ने कहा कि कोई भी पार्टी या उम्मीदवार अपने जलसे या कार्यक्रम की पूर्व जानकारी स्थानीय पुलिस को समय पर देना सुनिश्चित करेेंगे ताकि इस से आम जनता को किसी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पडे। उन्होंने सभी पार्टियों के उम्मीदवारों से आग्रह किया कि वे चुनाव के स्वतंत्र, शांतिपूर्ण एवं निष्पक्ष आयोजन के लिये चुनाव अधिकारियों से सहयोग करें। उन्होंने कहा कि मतदान वाले दिन पार्टियां एवं उम्मीदवार अपने कैम्प को सादा रखें और इसमें किसी प्रकार के पोस्टर, झंडे व प्रचार सामग्री इत्यादि प्रदर्शित न करें और न ही किसी प्रकार के खाद्य पदार्थ यहां बांटे जायें। डीसी ने बताया कि भारतीय चुनाव आयोग द्वारा चुनाव के दौरान पर्यवेक्षक नियुक्त किये जायेंगे और किसी पार्टी या उम्मीदवार को को आपत्ति या शिकायत हो तो इस बारे चुनाव पर्यवेक्षकों से सम्पर्क कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि विश्राम गृहों, डाक बंगलों और अन्य सरकारी आवासीय सुविधाओं को किसी एक पार्टी द्वारा इस्तेमाल न किया जाये। उन्होंने कहा कि मंत्रालय और अन्य प्राधिकारी चुनाव के दौरान अपने ऐच्छिक निधि से किसी प्रकार के अनुदान व भुगतान इस दौरान न करें। उन्होंने बताया कि सरकारी खर्च से किसी प्रकार के विज्ञापन आदि भी जारी न किये जायें जिससे किसी पार्टी विशेष को लाभ पहुंच सकता हो। उन्होंने बताया कि इस दौरान किसी भी प्रकार के तबादलों पर पूर्ण रूप से रोक रहेगी और अगर किसी अधिकारी या कर्मचारी का तबादला करना आवश्यक हो तो इसकी पूर्व अनुमति चुनाव आयोग से ली जाये। उन्होंने बताया कि नामांकन भरने हेतु निर्वाचन अधिकारी के समक्ष उम्मीदवार सहित केवल 5 लोग ही जा पायेंगे और नामांकन भरने आने वाले उम्मीदवारों को किसी प्रकार का जुलूस लेकर आने की इजाजत नहीं होगी और निर्वाचन अधिकारी के कार्यालय के 100 मीटर की परिधि में केवल 3 वाहन ही लाये जा सकेंगे। उन्होंने बताया कि नामांकन पत्रों की जांच के समय उम्मीदवार, उनका एजेंट, एक प्रस्तावक और एक अन्य व्यक्ति जो उनका वकील हो सकता है को ही आने की अनुमति होगी। उन्होंने बताया कि चुनाव के दौरान सरकारी व गैर सरकारी शैक्षणिक संस्थानों मे चुनावी रैली या अन्य आयोजन नहीं किये जा सकेंगे। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक बलवीर ठाकुर, एडीएम राकेश शर्मा, एएसपी शिव कुमार, एसडीएम डाॅ0 हरीश गज्जू, सीएमओ डीएस गुरूंग, डीपीआरओ मु0 अमीन शेख चिश्ती, नायब तहसीलदार निर्वाचन प्रताप ठाकुर और संजय कौल तथा विभिन्न विभागों के अधिकारी व राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)