October 21, 2017

शिमला में भाजयुमो और युवा कांग्रेस कार्यकर्त्ताओं के बीच खूनी संघर्ष

2015_1image_15_34_443729508shimla7-llशिमला: हिमाचल प्रदेश में युवा कांग्रेस और बीजेपी युवा मोर्चा के बीच शिमला स्थित बीजेपी प्रदेश मुख्यालय के पास खूनी संघर्ष होने का मामला सामने आया है। जानकारी के अनुसार पहले से तय रणनीति के मुताबिक युवा कांग्रेस अध्यक्ष विक्रामादित्य सिंह की अगुवाई में मोदी सरकार के खिलाफ बीजेपी मुख्यालय का घेराव करने पहुंचे युवा कांग्रेस कार्यकर्त्ता यहां उग्र आंदोलन करने पहुंचे थे। ये कार्यकर्त्ता बीजेपी मुख्यालय का घेराव करते इससे पहले वहां मौजूद बीजेपी युवा मोर्चा कार्यकर्त्ताओं ने उन्हें रोकने का प्रयास किया। देखते ही देखते नारेबाजी पत्थरबाजी में तब्दील हो गई और पुलिस के भारी तादात में जवानों की मौजूदगी के बाबजूद ये खूनी संघर्ष करीब 10 मिनट तक चला। इस दौरान भाजयुमो प्रवक्ता कारन नंदा और बीजेपी के शिमला जिला उप्पाध्यक्ष राजेश शारदा समेत कई अन्य कार्यकर्त्ता बुरी तरह से जख्मी हो गए। पथराव के दौरान बीजेपी मुख्यालय भवन को जहां नुक्सान पहुंचा तो वहीँ आस पास खड़ी कई गाड़ियों के भी शीशे टूट गए। वहीं इस घटना की बीजेपी ने कड़े शबों में निंदा की है। पार्टी प्रवक्ता गणेश दत्त ने इस घटना के लिए मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह पर सीधे तौर पर निशाना साधा और कांग्रेस सरकार की तत्काल बर्खास्तगी की मांग की, वहीं उन्होंने इस खूनी संघर्ष को रोकने के लिए पुलिस को विफल करार दिया। सरेआम इस लड़ाई में पुलिस की कारवाई पर भी कई सवाल खड़े किए जा रहे हैं। बीजेपी का आरोप है कि इस बाबत शिमला के एस पी को पहले से ही जानकारी दे दी थी लेकिन पुलिस की तरफ से दोनों संगठनों के बीच बचाव के लिए कोई कारवाई नहीं की। उधर मौके पर पहुंचे शिमला के ए एस पी भजन देव नेगी ने कहा कि इस संघर्ष के दौरान कई पुलिसकर्मियों को भी चोटें आई है। हिमाचल प्रदेश की राजनीति में ये पहली बार हुआ जब किसी को राजनैतिक संगठनों के बीच इस तरह से खूनी संघर्ष हुआ हो।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *