Header ad
Header ad
Header ad

शिक्षा खेल और मनोरंजन जीवन के अभिन्न अंग: लखनपाल

हमीरपुर,  छात्रों को शिक्षा के साथ-साथ परोपकारी व ईमानदार होना चाहिए।  शिक्षा खेल और मनोरंजन जीवन के अभिन्न अंग हैं। यह विचार मुख्य संसदीय सचिव इन्द्रदत्त लखनपाल ने राजकीय उच्च पाठशाला, बुम्बलू के वार्षिक पारितोषिक वितरण समारोह के अवसर पर संबोधित करते हुए प्रक्ट किए । उन्होंने कहा कि लक्ष्य छोटा हो अथवा बड़ा हो अभ्यास नितांत आवश्यक है। विद्यार्थियों को अपना ध्यान केवल विद्या ग्रहण की ओर ही केंद्रित करना चाहिए। उन्होंने कहा कि  निरन्तर अभ्यास से जीवन लक्ष्य से संबंधित किसी भी काम में कुशलता हासिल की जा सकती है। उन्होंने कहा कि अभ्यास से जहां ज्ञान बढ़ता है वहीं विषय विशेषज्ञता निपुणता हासिल होती है।  उन्होंने कहा कि मापदण्ड पूरा करने पर स्थानीय पाठशाला को आगामी सत्र में स्तरोन्नत करने के लिए प्रयास किया जाएगा । उन्होंने विद्यालय के मैदान को समतल करने और चार दिवारी लगाने के लिए प्राकलन तैयार करने के आदेश दिए । उन्होंने कहा कि कलौण सड़क निर्माण के लिये डीपीआर तैयार की जा रही है। इस अवसर पर बच्चों द्वारा रंगारंग सास्कृतिक प्रस्तुत किए। सांस्कृतिक कार्यक्रमों को बढ़ावा देने के लिए संसदीय सचिव ने अपने ऐच्छिक निधि से 11 हजार रूपये देने की घोषणा की ।
इससे पहले मुख्यध्यापक राजकीय उच्च पाठशाला नरोत्तम ठाकुर  ने मुख्यातिथि का स्वागत किया और स्कूल की गतिविधियों की विस्तृत जानकारी दी । इस अवसर पर  जिला परिषद् सदस्य अरविन्द्र कौर डोगरा,और सोमदत्त ने भी बच्चों को संबोधित किया । इस मौके पर नरेश लखन पाल प्रदेश सेवादल प्रवक्ता, महासचिव पवन पठानिया, डीपी
अग्निहोत्री, डीएस जसवाल, बलवंत सिंह, मुकेश लखनपाल, रणजीत सिंह गुलेरिया, आरसी लखनपाल, सतपाल, मंजीत सिंह, केसर दत्त, सुरेश शर्मा, स्कूल प्रबन्धन समिति के अध्यक्ष प्रदीप कुमार के अतिरिक्त अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

 Click this button or press Ctrl+G to toggle between multilang and English

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *