Header ad

वन कर्मियों की छुट्टियां रद्द

जवाली, 01 काँगड़ा – फायर सीजन में वनों को आग से बचाने के लिए वन विभाग पूरी तरह से मुस्तैद है तथा विभाग ने आगजनी की घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए कमर कस ली है तथा आगजनी की घटनाओं पर काबू पाने के लिए पुख्ता प्रबंध कर लिए हैं। वन विभाग ने कर्मियों की छुट्टियों को रद्द कर दिया है। वन परिक्षेत्र नूरपुर के अंतर्गत पांच बीट आती हैं, जिनमें करीब 53 हजार हेक्टेयर रकबा आता है, जिसमें से 25 हजार हेक्टयेर रकबा अति संवेदनशील है। डीएफओ नूरपुर संजय सेन ने बताया कि वन परिक्षेत्र नूरपुर के अंतर्गत कोटला, नूरपुर, भदरोआ, रे व जवाली पांच बीट आती हैं, जिनमें आगजनी पर नियंत्रण पाने के लिए करीब 55 किलोमीटर लंबी फायर लाइन बिछाई गई है। आगजनी पर कंट्रोल पाने के लिए पांच बीटों में पांच कंट्रोल रूम व 57 फायर वाचर स्थापित किए गए हैं। उन्होंने कहा कि कोटला व ताहलियां में स्थापित वाचर टावरों के माध्यम से दिन-रात वनों की निगरानी की जा रही है। उन्होंने कहा कि विभाग के अपने करीब छह-सात वाटर टैंक हैं, जिनको आगजनी की घटना घटित होने पर उपयोग में लाया जाता है। डीएफओ नूरपुर संजय सेन ने बताया कि विभाग आगजनी की घटनाओं पर काबू पाने के लिए हरसंभव प्रयास कर रहा है। कर्मचारियों की छुट्टियां भी रद्द कर दी गई हैं, ताकि हर समय वनों की निगरानी की जा सके। उन्होंने कहा कि विभाग स्कूलों, महिला मंडलों व पंचायतों में जाकर लोगों को इसके बारे में सचेत कर रहा है। वहीं पंचायत प्रधानों, महिला मंडल प्रधानों, युवक मंडल प्रधानों सहित पदाधिकारियों से भी आग्रह किया गया है कि वे लोगों को वनों को आग से बचाने के लिए सचेत करें। उन्होंने जनता से अपील की है कि वनों में आग लेकर न जाएं, वहीं बीड़ी-सिगरेट का प्रयोग भी वनों में न करें। उन्होंने कहा कि अगर कोई ऐसा करता जंगल में पाया गया तो उसके खिलाफ विभाग द्वारा कड़ा एक्शन लिया जाएगा। उन्होंने लोगों से अपील की है कि अगर वे कहीं पर वनों में आग लगी देखें तो इसके बारे में तुरंत वन विभाग के दूरभाष नंबर 01893-220490 या मोबाइल नंबर 94180-79955 पर संपर्क कर जानकारी दे सकते हैं।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *