Header ad
Header ad
Header ad

लड़कियां लिखती थी नारायण साईं को लव लेटर, कहती थीं आई लव यू ‘स्‍वीटहार्ट भगवान’ : (रवि )

शुरु से सुनता आया था कि मोहब्‍बत खुदा होता है। पढ़ा भी था कि भगवान और भक्‍त के बीच प्रेम का अटूट बंधन होता है। सालों पहले एक फिल्‍म भी देखी थी जिसका नाम था ‘लव इज गॉड’, मगर भगवाने के लिये भक्‍तों का ऐसा प्रेम, इजहार ए मोहब्‍बत और चाहत की रोशनी में डूबो कर लिखे गये भगवान के नाम का लव लेटर ना तो कभी नजरों के सामने से गुजरा था और ना ही कभी ऐसे लव लेटरों के बोल कानों से टकराए थे। जी हां आप सुनकर दंग रह जायेंगी कि नाबालिग से बलात्‍कार के आरोप में जेल में बंद आसाराम बापू के कुकर्मी बेटे नारायण साईं को ‘स्वीटहार्ट भगवान’ कहलाना अच्छा लगता था। नारायण साईं के नाम लड़कियों के इतने लव लेटर मिले हैं जिसे सुनकर और पढ़कर कोई भी दंग रह जाये। नारायण साईं के नाम इन लव लेटरों में लड़कियां साईं को स्‍वीटहार्ट बुलाती हैं, तो कोई ‘माई हार्ट’, कोई शायरी लिखती है तो कोई खुलेआम ऐलान कर रही है कि ‘यू आर माईन एंड आई एम योर्स’। इतना ही नहीं नारायण साईं की माशूकाओं ने तो लव लेटर में यहां तक लिखा है कि ‘आई नीड यू, आई वांट यू एंड आई लव यू’। इसके अलावा एक प्रेमिका तो मन के साथ-साथ अपना तन भी भगवान के सामने परोस देना चाहती है।नारायण साईं के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी किया है। एक लड़की ने सूरत के एक पुलिस स्‍टेशन में मुकदमा दर्ज कराया है कि नारायण साईं ने उसका कई जगहों पर बलात्कार और शारीरिक शोषण किया। जिन जगहों पर अपने साथ बलात्कार और शारीरिक शोषण का आरोप पीडि़ता ने लगाया है, उसमें सूरत के जहांगीरपुरा आश्रम के अलावा साबरकांठा जिले का गांभोई आश्रम, पटना आश्रम, काठमांडू आश्रम और मध्यप्रदेश का मेघनगर आश्रम है। पीडि़ता मुताबिक, नारायण साईं ने उसके साथ अप्राकृतिक यौन व्यवहार भी किया। उल्‍लेखनीय है कि 2002 से 2004 तक आश्रम में साधक के तौर पर जुड़ी रही।ऐसे में छानबीन के बाद नारायण साईं के नाम से जो लव लेटर सामने आये हैं वो नारायण साईं की मुश्किलें बढ़ा सकते हैं। न्‍यूज चैनल आजतक ने नारायण साईं के इन प्रेम पत्रों का ससनीखेज खुलासा किया है

मैं आपका इंतजार करुंगी भगवान नारायण साईं की एक प्रेमिका ने लेटर में लिखा है कि भगवान आप जिसको पकड़ लो वो कभी आपको छोड़ नहीं सकता। Please और चीजों में अपनी पकड़ भले ना रखो पर मुझे हमेशा पकड़ कर रखना।

Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)