Header ad
Header ad
Header ad

राज्यपाल का युवाओं को नशीले पदार्थों से दूर रहने का आग्रह

शिमला 17 अक्तूबर, 2015: राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने आज सोलन में शूलिनी विश्वविद्यालय द्वारा मादक

पदार्थों के कुप्रभावों बारे जागरूक करने के लिए आयोजित एक समारोह में
विद्यार्थियों को नशीले पदार्थों से दूर रहने की शपथ दिलाई। उन्होंने इस
अवसर पर युवाओं को इस संवेदनशील विषय पर शिक्षित करने के लिए तैयार किए
गए वैब पोर्टल का शुभारम्भ भी किया।

राज्यपाल ने युवाओं को हानिकारक मादक पदार्थों, जो न केवल उनके स्वास्थ्य
को नुकसान पहुंचा रहे हैं, बल्कि उनके भविष्य को भी अन्धकारमय बनाकर राष्ट्र
को कमजोर कर रहे हैं, से दूर रहने का आह्वान किया। उन्होंने जन जागरूकता
अभियान आरम्भ करके राज्य में नशे के विरूद्व आन्दोलन शुरू करने का आग्रह किया
ताकि संदेश राज्य के प्रत्येक कोने तक पहुंचे।

आचार्य देवव्रत ने कहा कि युवा देश का भविष्य है,ं और उन्हें नुकसानदायी एवं
विनाशकारी गतिविधियों की ओर ध्यान न देकर राष्ट्र निर्माण गतिविधियों में
भाग लेकर राष्ट्र विकास में योगदान देना चाहिए। उन्होंने युवाओं को निष्क्रिय
जीवन के बजाए अपने को सक्रिय तौर पर मुख्यधारा गतिविधियों से जोड़ने को
कहा। उन्होंने कहा कि राष्ट्र केवल युवा पीढ़ी के सहयोग से उन्नति के पथ पर
अग्रसर हो सकता है। उन्होंने कहा कि युवा पीढ़ी को स्वतंत्रता सेनानियों की
जीवनी का अध्ययन करना चाहिए ताकि वे उनसे देश भक्ति और राष्ट्रीय एकता का सबक
ले सके।

राज्यपाल ने विश्वविद्यालय द्वारा नशीले पदार्थों से बचने जैसे संवेदनशील विषय
और युवाओं को नशे से दूर रहने के लिए प्रेरित करने के प्रयासों की सराहना
की। उन्होंने अन्य संस्थानों को भी युवाओं को बुरी आदतों से बचाने के
लिए प्राथमिकता के आधार पर नशे के विरूद्ध अभियान छेड़ने का आग्रह किया।

आचार्य देवव्रत ने कहा कि युवाओं को स्वास्थ्य के प्रति सचेत होना चाहिए और
शारीरिक तौर पर स्वस्थ रहने के लिए स्वस्थ जीवनशैली को अपनाना चाहिए। इससे
युवाओं में स्वतः ही स्वस्थ मन और सकारात्मक सोच के साथ अच्छा नजरिया उत्पन्न
होगा, जो जीवन में सफलता हासिल करने के लिए आवश्यक है।

शूलिनी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. वी.के. खोसला ने राज्यपाल और अन्य
गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया तथा अभियान के उद्देश्यों की जानकारी दी।

शूलिनी विश्वविद्यालय के संरक्षक श्री विशाल आनन्द ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया।

दिल्ली की स्वयं सेवी संस्था, एटक की रिसोर्स पर्सन डा. सुमेधा ने नशे के
कुप्रभावों पर व्याख्यान दिया।

प्रतिकुलपति श्री सतीश आनन्द, प्रतिकुलपति प्रो. अतुल खोसला, जीव विज्ञान एवं
वाणिज्य प्रबन्धन फाऊंडेशन की अध्यक्ष श्रीमती सरोज खोसला, संरक्षक श्री अशोक
आनन्द, विभागाध्यक्ष, संकाय और विद्यार्थी भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)