October 23, 2017

मुख्यमंत्री ने की देवताओं के नजराने में 10 प्रतिशत वृद्धि की घोषणा

मुख्यमंत्री श्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि प्रदेश सरकार देवी-देवताओं की पवित्रता को बनाए रखने के लिए कृतसंकल्प है तथा राज्य में मेलों और त्यौहारों को और आकर्षित एवं प्रभावी तरीके से आयोजित करने के लिए अधिक सुविधाएं उपलब्ध करवाई जा रही हैं। श्री वीरभद्र सिंह आज कुल्लू में लाल चन्द प्रार्थी कलाकेन्द्र में आयोजित अंतरराष्ट्रीय कुल्लू दशहरा उत्सव के समापन समारोह के अवसर पर बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि स्थानीय देवी-देवताओं के भाग लेने के दृष्टिगत कुल्लू दशहरा को अन्तरराष्ट्रीय महोत्सव का दर्जा प्राप्त है। उन्होंने कहा कि श्रद्धालुओं के लिए यह एक विशेष अवसर होता है, जब एक स्थान पर सैंकड़ों देवी-देवताओं का आर्शीवाद प्राप्त किया जाता है। उन्होंने कहा कि देवी-देवताओं की पवित्रता को हर कीमत पर बनाए रखा जाएगा और 50 वर्षों से अधिक अस्तित्व वाले देवताओं को दशहरा उत्सव में आमंत्रित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि देवताओं के ‘मोहरों’ को प्रदर्शित करती पालकियों के साथ स्थानीय देवताओं के नाम पर धन उगाही की परम्परा से देवताओं की गरिमा कम हुई है, जिसे रोका जाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कुल्लू दशहरा में भाग लेने वाले देवी-देवताओं के ‘नज़राना’ राशि में 10 प्रतिशत वृद्धि करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि गत वर्ष नज़राने के तौर पर 39.29 लाख रुपये दिए गए थे, जिसमें 10 प्रतिशत वृद्धि से इस वर्ष इस राशि में 3.63 लाख अधिक दिए जाएंगे। इसके अतिरिक्त, देवताओं के बजंतरियों को 10 हजार रुपये प्रति देवता जबकि गैर-मुआफीदार बजंतरियों को 5 हजार रुपये प्रति देवता विशेष आर्थिक सहायता उपलब्ध करवाई जाएगी, जो गत वर्ष के मुकाबले 59 प्रतिशत अधिक है। श्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय कुल्लू दशहरा महोत्सव के ऐतिहासिक महत्व एवं विशेष परम्परा के दृष्टिगत राज्य सरकार ने कुल्लू दशहरा को अंतरराष्ट्रीय महोत्सव का दर्जा प्रदान किया है। उन्होंने महोत्सव आयोजन समिति, जिला प्रशासन, नगर परिषद तथा स्थानीय लोगों द्वारा दशहरा महोत्सव को शांति एवं उल्लास के साथ सफलतापूर्वक आयोजित करने के लिए बधाई दी। उन्होंने कहा कि महोत्सव में इस वर्ष विभिन्न देशों के सांस्कृतिक दलों ने भाग लिया तथा आगामी वर्षों में ऐसे और सांस्कृतिक दलों को आमंत्रित करने के प्रयास किए जाएंगे ताकि इसे और आकर्षक बनाया जा सके। संख्या 1271/2013-पब .2. मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य की समृद्ध संस्कृति को बढ़ावा देने और इसके संरक्षण के लिए कृतसंकल्प है। उन्होंने कहा कि उनके पूर्व कार्यकाल में ही ढालपुर मैदान में लाल चन्द प्रार्थी कलाकेन्द्र के नाम पर कलाकेन्द्र का निर्माण किया गया। राज्य सरकार ने ही कारदारों के लिए देव सदन का निर्माण किया ताकि प्रतिवर्ष कुल्लू दशहरा में शामिल होने वाले कारदारों को ठहरने की उचित व्यवस्था हो सके। उन्होंने कहा कि देव सदन में कारदारों को प्राथमिकता दी जाएगी और उनसे न्यूनतम शुल्क वसूल किया जाएगा। श्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि प्रदेश सरकार भ्रष्टाचार को किसी भी कीमत में सहन नहीं करेगी तथा भ्रष्टाचार में संलिप्त कोई भी व्यक्ति वह चाहे कितना ही प्रभावशाली क्यों न हो, बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि उनकी किसी भी व्यक्ति के साथ व्यक्तिगत दुश्मनी नहीं है तथा ऐसे मामलों में कानून अपना कार्य करेगा। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार से जुड़े किसी भी मामले की बिना किसी दुर्भावना से पूर्ण जांच की जाएगी। उन्होंने कहा कि पूर्व सरकार ने दो बार उन्हें गलत तरीके से फंसाने की कोशिश की परन्तु उन्होंने न्यायालय में लड़ाई लड़ी और सभी आरोपों से पाकसाफ होकर निकले। इससे पूर्व, उन्होंने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला, रायसन की स्थापना के 100 वर्ष पूरे होने के अवसर पर आयोजित समारोह में भाग लिया। उन्होंने कहा कि शिक्षा क्षेत्र सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में है, जिसके लिए धन की कोई कमी नहीं आने दी जाएगी। उन्होंने कहा कि उनके मुख्यमंत्रित्व कार्यकाल में प्रदेश में भारी संख्या में स्कूल खोले गए ताकि विद्यार्थियों को पढ़ाई के लिए डेढ़ से दो किलोमीटर से अधिक दूर न जाना पड़े। उन्होंने रायसन विद्यालय में नए खण्ड के निर्माण और सांस्कृतिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए 25000 रुपये देने की घोषणा की। बाद में, मुख्यमंत्री ने 8.75 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित राजकीय महाविद्यालय, हरिपुर (मनाली) का लोकार्पण किया तथा इसका नाम पंडित जवाहर लाल नेहरू कालेज, हरिपुर रखने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि पंडित नेहरू का कुल्लू-मनाली से विशेष प्रेम था और उन्होंने इस स्थान का दौरा भी किया। उन्होंने कहा कि 17मील पुल को बस योग्य बनाया जाएगा। उन्होंने हरिपुर कालेज में अगले वर्ष से विज्ञान कक्षाएं आरम्भ करने और लैफ्ट बैंक सड़क को पक्का करने की घोषणा भी की। श्री वीरभद्र सिंह ने इस अवसर पर कुल्लू दशहरा की स्मारिका तथा राजकीय महाविद्यालय कुल्लू के डा. दयानन्द गौतम की दो पुस्तकों का विमोचन संख्या 1271/2013-पब .3. किया। उन्होंने श्री विद्यासागर, श्री राजेन्द्र कुमार शर्मा तथा श्री सुरेन्द्र मैहता को उनके द्वारा संबंधित क्षेत्रों में बेहतर सेवाओं के लिए सम्मानित भी किया। मुख्यमंत्री ने उपायुक्त कार्यालय कुल्लू में सुगम केन्द्र का उद्घाटन भी किया जहां एक छत के नीचे लोगों को विभिन्न कम्पयूटरीकृत सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाएंगी। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश ने कम्पयूटरीकरण के क्षेत्र में नए आयाम स्थापित किए हैं तथा ग्राम पंचायत स्तर तक इस सुविधाओं को उपलब्ध करवाने के प्रयास किए जा रहे हैं। सांसद श्रीमती प्रतिभा सिंह ने कुल्लू दशहरा के सफल आयोजन तथा इस वर्ष अधिक विदेशी दलों को आमंत्रित करने पर प्रसन्नता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह के नेतृत्व में केन्द्र सरकार द्वारा गरीब एंव ग्रामीण लोगों के कल्याण के लिए अनेक महत्वकांक्षी योजनाएं आरम्भ की गई हैं। उन्होंने कहा कि मनरेगा, राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन, आर.टी.आई. तथा अब खाद्य सुरक्षा अधिनियम से गरीब एवं उपेक्षित वर्ग लाभान्वित होंगे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री वीरभद्र सिंह ने अपने पूर्व कार्यकाल के दौरान राज्य में खाद्यान्न उपदान योजना आरम्भ की थी जिसके अन्तर्गत प्रत्येक राशनकार्ड धारक को गेहूं का आटा, चावल, दालें, खाद्य तेल और चीनी उपलब्ध करवाई जा रही हैं। विधायक सर्वश्री महेश्वर सिंह, गोबिन्द ठाकुर, कर्ण सिंह एवं खूब राम, जिला कांग्रेस समिति के अध्यक्ष श्री बुद्धि सिंह ठाकुर तथा जिला परिषद कुल्लू के अध्यक्ष श्री हरि चन्द शर्मा ने भी इस अवसर पर अपने विचार व्यक्त किए। उपायुक्त एवं कुल्लू दशहरा समिति के अध्यक्ष श्री राकेश कंवर ने मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए कहा कि कुल्लू दशहरा के स्तर में और सुधार तथा स्वच्छता एवं कानून व्यवस्था को बनाए रखने के प्रयास किए गए हैं। कांगड़ा केन्द्रीय सहकारी बैंक के अध्यक्ष श्री जगदीश सिपहिया, पूर्व मंत्री श्री सत्य प्रकाश ठाकुर, राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष श्रीमती धनेश्वरी ठाकुर, प्रदेश कांग्रेस समिति के महासचिव श्री सुन्दर ठाकुर, प्रदेश कांग्रेस समिति के प्रवक्ता श्री भुवनेश्वर गौड़, मनाली विकास मंच के अध्यक्ष श्री धर्मवीर धामी, नगर परिषद कुल्लू के उपाध्यक्ष श्री मनु शर्मा, मुख्यमंत्री के सलाहकार श्री टी.जी. नेगी, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य अधिकारी श्री अमित पाल सिंह, सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग के निदेशक श्री राजेन्द्र सिंह, पुलिस अधीक्षक श्री विनोद कुमार धवन, अन्य गणमान्य व्यक्ति एवं वरिष्ठ अधिकारी भी इस अवसर पर उपस्थित थे। .0.

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *