October 19, 2017

मुख्यमंत्री द्वारा भोरंज में मिनी सचिवालय भवन का लोकार्पण

मुख्यमंत्री श्री वीरभद्र सिंह ने आज हमीरपुर जिले के भोरंज में 10 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित पांच मंजिला मिनी सचिवालय भवन का लोकार्पण किया। नवनिर्मित इस भवन के दो मंजिलों में पार्किंग सुविधा के साथ-साथ उपमण्डलाधिकारी कार्यालय, कैंटीन, सुगम केन्द्र, डाकघर, लिटिगेंट हाॅल एवं सर्किट कोर्ट, दुकानें, एटीएम, कोषागार, तहसील कल्याण अधिकारी कार्यालय इत्यादि के लिए स्थान उपलब्ध करवाया गया है।
मुख्यमंत्री ने 66.64 लाख रुपये की लागत से टौणी देवी में निर्मित होने वाली पुलिस चैकी भवन की आधारशिला भी रखी।
इसके पश्चात्, भोरंज के वाई.एस. परमार राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला में उपस्थित जनसभा को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल निर्माता डाॅ. वाई.एस. परमार ने राज्य के विकास में अह्म योगदान दिया है। वास्तव में डाॅ. परमार ने ही प्रदेश के विकास की रूप रेखा तैयार की और उनके दिखाए गए मार्ग पर ही राज्य विकास की ओर अग्रसर है। डाॅ. परमार के सम्मान में भोरंज स्कूल का नामकरण किया गया है।
श्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि कांग्रेस कार्यकाल के दौरान हमीरपुर जिले का चहुंमुखी विकास सुनिश्चित हुआ है और कांग्रेस ने ही हमीरपुर को जिले के रूप में पहचान दी है। हमीरपुर, जिला बनने से पूर्व कांगड़ा की तहसील थी तथा कांगड़ा के कुछ क्षेत्रों को मिलाकर इसे जिले का दर्जा दिया गया ताकि यहां विकास को गति प्रदान की जा सके। उन्होंने कहा कि जिला बनने के पश्चात् हमीरपुर ने शिक्षा, स्वास्थ्य एवं सड़क निर्माण इत्यादि क्षेत्रों में व्यापक विकास किया और आज इन महत्वपूर्ण क्षेत्रों में यह जिला प्रदेश का आदर्श बन कर उभरा है। इसका श्रेय प्रदेश में रही कांग्रेस सरकारों को जाता है। उन्होंने कहा कि जिले में चाहे पेयजल की बात हो या फिर स्कूल खोलने की, यह सभी कार्य उनके कार्यकाल में ही किए गए। मिनी सचिवालय की मंजूरी भी उनके कार्यकाल में ही दी गई।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य का समग्र एवं संतुलित विकास सुनिश्चित बना रही है। बिना भेदभाव के राज्य के हर क्षेत्र एवं गांव का विकास ही प्रदेश सरकार का लक्ष्य है। यह उनका सौभाग्य है कि देश के सभी प्रधानमंत्रियों के साथ उन्हें कार्य करने का अनुभव प्राप्त हुआ है। उन्होंने कहा कि पूर्व भाजपा सरकार ने विकास के नाम पर कुछ नहीं किया, केवल विकास का श्रेय लेने के लिए हमेशा आगे रही। उन्होंने कहा कि श्री शांता कुमार भी हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे। उनसे वैचारिक मतभेद जरूर रहे, लेकिन वह एक शालीन व्यक्तित्व हैं। इसके विपरीत श्री प्रेम कुमार धूमल दो बार प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। उन्होंने विकास करने और गरीबी हटाने का नारा जरूर दिया, लेकिन अपनी गरीबी ही दूर की। प्रदेश से नहीं बल्कि वह केवल सत्ता
संख्या 1306/2013-पब .2.
से प्रेम करते हैं। पंजाब में रहते हुए वह पंजाबी और हिमाचल में रहकर हिमाचली होने की बात करते हैं। श्री धूमल ने सदैव कांग्रेस पर भेदभाव की राजनीति करने का तथ्यहीन आरोप लगाया, जबकि वास्तविकता यह है कि अपने दोनों कार्यकालों में उन्होंने सिवाय भेदभाव की राजनीति करने और विरोधियों को कुचलने के अलावा कुछ नहीं किया।
श्री वीरभद्र सिंह ने इस अवसर पर भोरंज स्कूल में खेल मैदान के निर्माण के लिए 17 लाख 39 हजार रुपये देने की घोषणा की। उन्होंने कंजसियान उच्च पाठशाला को स्तरोन्नत कर दस जमा दो करने की भी घोषणा की। उन्होंने कहा कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, भोरंज को स्तरोन्नत किया जाएगा और यहां अतिरिक्त बिस्तरों की सुविधा प्रदान की जाएगी तथा विशेषज्ञ चिकित्सकों की तैनाती की जाएगी ताकि क्षेत्र के लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध हो सकें। उन्होंने भोरंज डिग्री काॅलेज में अधोसंरचना विकास और अतिरिक्त स्टाफ की तैनाती करने की भी घोषणा की।
मुख्य संसदीय सचिव श्री इंद्रदत्त लखनपाल ने इस अवसर पर कहा कि मुख्यमंत्री श्री वीरभद्र सिंह के नेतृत्व में हमीरपुर जिले में विकास को गति प्रदान की गई है। उन्होंने कहा कि पूर्व भाजपा सरकार ने जिले में सड़क, शिक्षा और स्वास्थ्य के नाम पर बड़ी-बड़ी घोषणाएं की, लेकिन धरातक पर कोई कार्य नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिए कांग्रेस का प्रत्येक कार्यकर्ता मुख्यमंत्री के साथ है।
प्रदेश कांग्रेस समिति के सदस्य श्री सुरेश कुमार, एपीएमसी हमीरपुर के अध्यक्ष श्री प्रेम कौशल, कांग्रेस के नेता श्री रमेश डोगरा तथा राज्य महिला आयोग की सदस्य श्रीमती प्रोमिला देवी ने भी इस अवसर पर अपने विचार व्यक्त किए।
हमीरपुर जिला कांग्रेस के उपाध्यक्ष श्री राजेश ठाकुर ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया।
मुख्यमंत्री ने इस मौके पर भाजपा से कांग्रेस पार्टी में शामिल हुए लोगों का हार पहनाकर स्वागत किया।
विधायक श्री राजेन्द्र राणा, विधायक श्री अजय महाजन, प्रदेश कांग्रेस समिति के महासचिव श्री सुनील बिट्टू, कांगड़ा केंद्रीय सहकारी बैंक के उपाध्यक्ष एवं पूर्व विधायक श्री कुलदीप पठानिया, पूर्व विधायक श्री बाबू राम गौतम, जिला कांग्रेस समिति के अध्यक्ष श्री नरेश ठाकुर, खण्ड कांग्रेस समिति, भोरंज के अध्यक्ष श्री राजीव लाल मेहर, महिला कांग्रेस की जिला अध्यक्ष श्रीमती राकेश रानी, हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष श्री बी.आर. राही, पूर्व सैनिक कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष श्री वी.पी. लगवाल, मुख्यमंत्री के सलाहकार श्री टी.जी. नेगी, पुलिस महानिरीक्षक श्री पी.एल. ठाकुर, उपायुक्त श्री आशीष सिंघमार, पुलिस अधीक्षक सुश्री वीना भारती, अन्य वरिष्ठ अधिकारी एवं क्षेत्र के गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

 

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *