Header ad
Header ad
Header ad

टीनेजर्स की सेक्‍सुअल लाइफ से जुड़े गंभीर सच

हमारे ही भारत में एक समय था जब बच्‍चे 13 वर्ष की आयु में कदम रखते थे, तब उन्‍हें अखबार दिया जाता था, ताकि वो हर रोज़ संपादकीय पढ़ सकें। पिता खुद पुस्‍तकालय जाकर अपने बच्‍चों को सदस्‍यता दिलाते थे, जाकि उनका बच्‍चा अच्‍छी-अच्‍छी किताबें पढ़ सके। जो आगे पढ़ना नहीं जानते थे, उन्‍हें ट्रेनिंग कोर्स कराये जाते थे, ताकि वो आगे चलकर बेरोजगार न रहें। तब टीनेजर को कुछ ऐसे परिभाषित किया जाता था कि आंखों के सामने भविष्‍य के लिये गंभीर बच्‍चे की तस्‍वीर बन जाती थी। आज टीनेजर की परिभाषा पूरी तरह बदल चुकी है। नई परिभाषा कुछ यह है- 13 से 19 साल की आयु जिसमें बच्‍चे पढ़ाई करते हैं, इधर-उधर से पैसा कमाने की होड़ में लगे रहते हैं, चैटिंग, इंटरनेट ब्राउजिंग, एसएमएस, ट्विटर, फेसबुक, धूम्रपान, शराब, सेक्‍स और बहुत कुछ जिसके लिये ये भविष्‍य का इंतजार नहीं कर सकते। इन सब में जो सबसे गंभीर है, वो है इनका सेक्‍सुअली ऐक्टिव होना।

पढ़ाई के अलावा खर्च होते हैं 10 घंटे भारतीय पीडिएट्रीशन एसोसिएशन के सर्वेक्षण के अनुसार भारत के टीनेजर्स दिन भर में 10 घंटे पढ़ाई के अलावा किसी अन्‍य चीजों में खर्च करते हैं। ये 10 घंटे इस प्रकार हैं- दो घंटे सोशल नेटवर्किंग साइट, 1.5 घंटे मोबाइल फोन पर बतियाने में, 2.5 घंटे टीवी पर, 1.5 घंटे कंप्‍यूटर गेम्‍स में, 3.5 घंटे अन्‍य कामकाज जैसे घर में किसी से बतियाने, भोजन करने व अन्‍य कार्यों में अपना समय देते हैं।

13 साल की उम्र से पहले पोर्न फिल्‍में, इंडिया टुडे के सर्वेक्षण के अनुसार 5 में से एक टीनेजर 13 साल की उम्र से पहले पोर्न फिल्‍में, तस्‍वीरें या वीडियो देख चुके होते हैं। 15 फीसदी बच्‍चे स्‍कूल के टॉयलेट में यौन गतिविधियों को अंजाम देते हैं। 95 फीसदी टीनेजर्स शादी से पहले सेक्‍स को सही मानते हैं।सर्वे के अनुसार 98 फीसदी बच्‍चे 13 साल की उम्र तक यह जानते थे कि कंडोम क्‍या होता है और गर्भनिरोधक पिल्‍स का इस्‍तेमाल क्‍यों किया जाता है।3 में से एक बच्‍चा आज भी अपनी समस्‍या को अपने माता-पिता से बताने में डरता है। इस कारण वह तनाव में रहता है। तीन में से एक छात्र है, जो अपनी स्‍ट्रीम बदलना चाहते हैं। 10 में से एक टीनेजर अपने पिता से ज्‍यादा करीब है।5 में से एक छात्र 16 साल का होने से पहले धूम्रपान कर चुका होता है। 2 में से एक टीनेजर 16 साल का होने से पहले बाइक या कार चला चुका होता है। 50 फीसदी टीनेजर अपने ऑपोजिट सेक्‍स के किसी न किसी व्‍यक्ति को एक न एक बार किस कर चुके थे। तीन में से एक छात्र 13 का होने से पहले पोर्न मूवी देख चुका होता है।3 में से एक बच्‍चा 16 साल का होने से पहले पोर्न मूवी देख चुका होता है। 5 में से एक छात्र स्‍कूल के टॉयलेट में गलत काम कर चुके होते हैं।छोटे शहरों में 12 से 21 साल की उम्र के बच्‍चों में 21 प्रतिशत टीनेजर्स 13 से 16 साल की उम्र में सेक्‍स कर चुके होते हैं। वहीं मेट्रो शहरों में यह संख्‍या 13 फीसदी है। छोटे शहरों की टीनेजर लड़कियों में भी 13 से 19 साल की 42 फीसदी लड़कियां एक सप्‍ताह में दो से तीन बार सेक्‍स कर चुकी होती हैं।छोटे शहरों व गांवों के 70 फीसदी पुरुष चाहते हैं कि उनकी पत्‍नी शादी के पहले तक वर्जिन रहे।चंद्रशेखर आजाद विश्‍वविद्यालय कानपुर द्वारा कराये गये सर्वेक्षण में पता चला कि टीवी के जरिये टीनेजर्स ने सेफ सेक्‍स के बारे में जानकारी प्राप्‍त की और वे यौन संक्रमित रोगों से बचने के उपाये जानते हैं।चंद्रशेखर आजाद विश्‍वविद्यालय कानपुर द्वारा कराये गये सर्वेक्षण के अनुसार 71.7 फीसदी लड़कियां और 62.5 लड़के सेक्‍स एजुकेशन पर आधारित टीवी कार्यक्रमों व विज्ञापनों के माध्‍यम से सेक्‍सुअल हेल्‍थ के प्रति जागरूक हुए।सर्वेक्षण में पाया गया कि 99 फीसदी टीनेजर्स लड़के इंटरनेट पर सेक्‍स शब्‍द दिन में कम से कम एक बार जरूर खोजते हैं। वहीं 46 फीसदी लड़कियां अकेले में इंटरनेट पर सेक्‍स शब्‍द खोजती हैं।88.3 फीसदी लड़के और 68.3 फीसदी लड़कियां चैटिंग पर सेक्‍स की बातें डिसकस करना पसंद करते हैं।35.8 फीसदी लड़के और 33.3 लड़कियां चैटिंग के दौरान अपनी यौन इच्‍छाओं को खुल कर रख देते हैं।इंटरनेट ऐक्‍सेस प्राप्‍त टीनेजर्स पर सर्वे के अनुसार 90 फीसदी लड़के और 75.8 प्रतिशत लड़कियां यौन इच्‍छाओं के दमन के लिये पोर्न या सेमी पोर्न मूवी या वीडियो देखना पसंद करते हैं। वहीं 77.5 फीसदी लड़के और 50 फीसदी लड़कियां तस्‍वीरें देखना पसंद करती हैं।48 फीसरी टीनेजर्स टीवी और फिल्‍मों से प्रेरित होने पर उनके अंदर यौन इच्‍छाएं जागृत होती हैं।जो लड़के मैथुन करते हैं, उनमें से 52 फीसदी ने कहा कि वो हफ्ते में कम से कम दो बार मैथुन करते हैं। वहीं 23 फीसदी लड़कियों ने कहा कि हफ्ते में दो बार मैथुन करती हैं। और 46 फीसदी लड़कियों ने कहा साल में कभी-कभी ऐसा करती हैं।यूएस हाईस्‍कूल छात्रों पर 2011 में हुए सर्वे के अनुसार वहां 47.4 फीसदी टीनेजर्स 13 से 19 साल की उम्र में ही संभोग कर चुके होते हैं।

Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)