October 23, 2017

ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम में 634 लाख रूपये व्यय

धर्मशाला 19 फरवरीः राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम के तहत् जिला में 634 लाख रूपये व्यय करके 291 विभिन्न कार्ययोजनाएं क्रियान्वित की गई है।
यह जानकारी जिला परिषद अध्यक्ष, श्रीमती श्रेष्ठा कौंडल ने आज जिला जल एवं स्वच्छता मिशन की सातवीं बैठक की अघ्यक्षता करते हुए दी। उन्होंने कहा कि गा्रमीण पेयजल, सम्पूर्ण स्वच्छता कार्यक्रम के अतिरिक्त स्कूलों में जलमणी योजना के तहत् एक्वागार्ड इत्यादि स्थापित किये गये है।
उन्होंने कहा कि जिला की सभी पंचायतों को पेयजल गुणवता की जांच के लिए किटें उपलब्ध करवाई गई हैं। इसके अतिरिक्त पेयजल की शुद्धता एवं गुणवता जांच के लिए 1411 जलरक्षकों को जिला मंडी के डागसीधार प्रशिक्षण केन्द्र में प्रशिक्षण दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जिला के लोगों को जागरूक करने के लिए ब्लाॅक तथा जिला स्तर पर कार्यशालाओं का आयोजन किया जायेगा।
उन्होंने कहा कि जिला के 49 स्कूल भवनों रूफ वाॅटर हारवेस्टिंग स्ट्रक्चर निर्मित किए गए हैं उन्होंने कहा कि स्वच्छता के बारे लोगों को समय-समय पर जागरूक करने की अवश्यक्ता है ताकि लोग खुले में शौच न करें बल्कि शौचालय का प्रयोग करें । इसके अतिरिक्त प्राकृतिक जल स्त्रोतों, कुओं, बावड़ियों इत्यादि का विशेष बल दिया ।
अधिशाषी अभियंता सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग एवं सदस्य सचिव, जल एवं स्वच्छता मिशन श्री दीपक गर्ग ने मुख्यातिथि का स्वागत करते हुए जिला में मिशन के अन्तर्गत चलाए जा रहे विभिन्न कार्यक्रमों बारे विस्तृत जानकारी दी।इस अवसर पर विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *