Header ad
Header ad
Header ad

गरीबों के फ्लैट की किस्त 34 हजार रुपए महीना!

awas-vikas-05-05-2015-1430807490_storyimageलखनऊ। गरीबों के लिए बनाए जा रहे आवास विकास के फ्लैटों की किस्त 34 हजार रुपए महीने पड़ेगी। मध्यम वर्ग के लोगों के फ्लैटों की महीने की किस्त 45 से लेकर 83 हजार रुपए। आवास विकास परिषद ने समाजवादी आवास योजना में गरीबों व मध्यम वर्ग आय वालों का कुछ इसी तर्ज पर मजाक उड़ाया है। एलडीए ने जहां समाजवादी आवास योजना में लोगों को 15 वर्ष में कीमत चुकाने की छूट दी है। वहीं आवास विकास परिषद तीन वर्ष में ही लोगों से पूरा पैसा वसूल रही है। लोग अपनी महीने की पूरी कमाई केवल किस्त में दें तब भी वे फ्लैट नहीं खरीद पाएंगे। आवास विकास परिषद ने दो मई को समाजवादी आवास योजना की शुरुआत की। इसके तहत परिषद राजधानी में 7,756 फ्लैट बनाने जा रही है। परिषद ने इसके लिए अखबारों में आपके बजट में आपका आवास का आकर्षक स्लोगन भी दिया। जब मकानों की किस्तों का परीक्षण किया तो पता चला कि गरीब व मध्यम वर्ग का व्यक्ति तो इन्हें खरीद ही नहीं सकता है। आवास विकास परिषद ने सबसे छोटे ईडब्ल्यूएस श्रेणी के 26.61 वर्गमीटर के फ्लैट की कीमत 12.25 लाख रुपए रखी है। जिसे यह फ्लैट आवंटित होगा उसे 36 महीने में पूरी कीमत चुकानी पड़ेगी। यानी प्रतिमाह आवंटी को करीब 34 हजार रुपए महीने देने होंगे। 65 हजार रुपए की पंजीकरण राशि कम कर दी जाए तो भी लोगों को प्रति माह 32 हजार रुपये से ज्यादा देने होंगे। इसी तरह ईडब्ल्यूए श्रेणी के 37.65 वर्गमीटर के फ्लैट की कीमत 16.35 लाख रुपए रखी गई है। इसे खरीदने के लिए लोगों को करीब 45 हजार रुपए महीना किस्त देनी होगी। एलआईजी के 59.11 वगज़्मीटर के फ्लैट लेने के लिए लगभग 65 हजार रुपए महीने की किस्तें चुकानी होंगी। एलआईजी के एक दूसरी श्रेणी के 74.80 वर्गमीटर के फ्लैट की कीमत परिषद ने पूरे 30 लाख रुपए रखी है। इसे खरीदने के लिए आवास विकास परिषद को प्रतिमाह 83 हजार रुपए देने होंगे। उत्तर प्रदेश आवास एवं विकास परिषद के सचिव रुद्र प्रताप सिंह ने कहा कि मकानों की किस्त वास्तव में काफी ज्यादा हो गई है। इतनी किस्त गरीब व मध्यम वर्ग के लोगों को चुकाने में दिक्कतें होंगी। हम मकानों की किस्तें कम करने के लिए बोर्ड में प्रस्ताव ले गए थे लेकिन बोर्ड ने इसे अस्वीकार कर दिया।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)