Header ad
Header ad
Header ad

’गरीबों की मददगार कल्याणकारी योजनाएं ’

दिनांक: 13 सितम्बर, 2013

प्रदेश सरकार समाज कल्याण को विशेष प्राथमिकता दे रही है। समाज के पिछड़े एवं कमजोर वर्ग के लोगों के सामाजिक एवं आर्थिक उत्थान के लिए वर्तमान सरकार द्वारा अनेक अहम् निर्णय लिए हैं। राज्य सरकार के कुल बजट का करीब 33 प्रतिशत समाज कल्याण गतिविधियों पर व्यय किया जा रहा है। जिला कांगड़ा में इस वित्त वर्ष के दौरान करीब 38 करोड़ रूपये की राशि समाज कल्याण गतिविधियों पर व्यय की जा रही है। जिला में 51270 व्यक्तियों को सामाजिक सुरक्षा पैंशन योजना के तहत् लाया गया है। इनमें 28366 वृद्ध व्यक्तियों को वृद्वा पैंशन योजना, 14995 महिलाओं को विध्वा पैंशन योजना, 7810, अपंग व्यक्त्यिों को अपंग राहत भत्ता तथा 99 कुष्ठ रोगियों को पुनर्वास भत्ता योजना के तहत् लाया जा चुका है। इसके इलावा जिला में 2770 नये व्यक्तियों को सामाजिक सुरक्षा पैंशन योजना के दायरे में लाया गया है जिनमें 1584 व्यक्तियों को वृद्वावस्था पैंशन 709 महिलाओं को विध्वा पैंशन तथा 477 अपंग व्यक्तियों को अपंग राहत भत्ता में शमिल है। जिला में करीब 32 करोड़ रूपये की राशि सामाजिक सुरक्षा पैंशन योजना के अन्तर्गत इस वित्त वर्ष में व्यय की जायेगी, जबकि 8.80 करोड़ रूपये की राशि गत जून के अंत तक व्यय की जा चुकी है। पिछड़े एवं गरीब वर्ग के परिवारों को आवास सुविधा जुटाने के लिए सरकार द्वारा गृह निर्माण अनुदान योजना शुरू की गई है। इस योजना के अन्तर्गत पात्र परिवारों को मिलने वाली अनुदान राशि को वर्तमान सरकार द्वारा 48,500 रूपये से बढ़ाकर 75,000 रूपये किया गया है। जिला कांगड़ा में इस योजना के अन्तर्गत इस वित्त वर्ष में 867 पात्र व्यक्त्यिों को लाभान्वित करने का लक्ष्य रखा गया है तथा 2.16 करोड़ की राशि गृह अनुदान के रूप में वितरित की जायेगी। इस योजना के तहत् जिला में अगस्त माह के अंत तक 190 पात्र व्यक्त्यिों को लाभान्वित किया जा चुका है। सक्षम युवा एवं युवितयों को अक्षम व्यक्त्यिों जिनकी अक्षमता 40 प्रतिशत से उपर हैं, के साथ विवाह करने के लिए विवाह अनुदान के रूप साथ विवाह करने के लिए अनुदान के रूप में सहायता सरकार द्वारा प्रदान की जा रही है। जो 8000 रूपये से लेकर 15000 तक शामिल है। जो उनकी अपंगता की प्रतिशतता पर आधरित है। इस वित्त वर्ष के दौरान जिला में 13 में से सक्षम व्यक्तियों को 1 लाख 25 हजार रूपये की राशि विवाह अनुदान के रूप में वितरित की गई है।जिन्होंने अक्षम लड़के अथवा लड़की के जीवन का सहारा बनने का संकल्प लिया है। समाज से छूआछुत जैसे कलकं को समाप्त करने के लिए सरकार अन्र्तजातिया विवाह प्रणाली को प्रोत्साहित करने के उद्वे्ेश्य से वर्तमान सरकार द्वारा प्रोत्साहन राशि को 25, 000/- रूपये से बढ़ाकर 50,000/ रूपये किया गया है। इस योजना के अन्तर्गत जिला में अगस्त माह के अंत तक 28 दम्पतियों को 70 लाख रूपये की राशि अन्र्तजातीय विवाह अनुदान के रूप में वितरित की गई है। प्रदेश सरकार की कल्याणकारी योजनाएं पिछड़े एवं कमजोर वर्ग के लोगों के उत्थान के लिए एक वरदान साबित हुई है। इन योजनाओं की मदद से न केवल गरीब एवं कमजोर वर्ग के लोगों के जीवन में परिवर्तन आया है बल्कि उनको एक सम्बल भी मिला है। ’ ’ जारीकर्ता, जिला लोक सम्पर्क अधिकारी, कांगड़ा स्थित धर्मशाला

Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

 Click this button or press Ctrl+G to toggle between multilang and English

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *