October 19, 2017

खुमली के फैसले से दलित परिवार पर टूटा कहर, जबरन करवा दी युवती की दूसरी शादी

default (24)पांवटा साहिब: विकास खंड पांवटा के गिरिपार क्षेत्र की एक पंचायत में हुई खुमली के एक फैसले ने दलित परिवार पर कहर ढा दिया। खुमली ने दलित पर पूरे गांव को भोज खिलाने और नकदी का अर्थ दंड लगाकर उसका तलाक करवाकर अंतर्जातीय विवाह तुड़वा दिया। इतना ही नहीं, खुमली ने जबरन युवती की दूसरी शादी करवा दी। घटना के बाद से ही पीड़ित दलित युवक लापता है। जानकारी के मुताबिक कुछ माह पहले एक दलित युवक ने स्वर्ण युवती से कोर्ट में अंतर्जातीय विवाह किया था, जिसके बाद दहशत के मारे दंपति शिमला में शरण लेकर रह रहा था। गांव में युवक के परिवार का सामाजिक बहिष्कार कर दिया गया था। कुछ दिन पहले एक षड्यंत्र के तहत दंपति युवक-युवती को जबरन एक वाहन में बिठाकर शिमला से गांव लाया गया और गांव में कुछ दबंग लोगों की खुमली बिठाई गई, जिसमें दबाव बनाकर उनसे एक तलाकनामे पर हस्ताक्षर करवाए गए। गांव में मौजूद सूत्रों का कहना है कि उसके बाद युवती की दूसरी जगह शादी कर दी गई जबकि युवक के परिवार पर 19 जनवरी सोमवार शाम को पूरे गांव का भोज व नकदी का अर्थ दंड लगाया गया। गिरिपार क्षेत्र में जातीय दुर्भावना के आए दिन मामले दर्ज किए जा रहे हैं। दलितों का मंदिरों तक में प्रवेश वर्जित है और अगर कोई उसके खिलाफ आवाज उठाता है, तो उस पर दबंग लोगों की खुमली बिठाकर सामाजिक बहिष्कार करके मनमर्जी का अर्थ दंड लगा दिया जाता है।

यह है खुमली किसी दलित द्वारा की गई गलती को दंडित करने के लिए गांव के स्वर्ण जाति के दबंग लोग बैठक बिठा देते हैं जिसे खुमली कहा जाता है। उनका अपना कानून है जो हरियाणा के खाप पंचायत की तरह एक तरफा असहनीय फैसला सुनाती है और जो उसके द्वारा किए गए फैसले का विरोध करता है उसका सामाजिक बहिष्कार कर दिया जाता है। गिरिपार में खुमली प्रथा अपना कंगारू कोर्ट चलाती है जिसके शिकंजे में ज्यादातर दलित ही रहते हैं।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *