Header ad
Header ad
Header ad

कैम्प लगा कर लोगों को ऋण योजनाओं बारे जागरूक करें

Bankers meeting (1)

धर्मशाला, 04 मार्च: कृषि और सम्बन्धित क्षेत्रों में अधिक से अधिक ऋण दें बैंक ताकि लोगों को स्वारोजगार सृजन के साधन उपलब्ध हो सकें । यह विचार उपायुक्त सी पालरासू ने आज यहां पंजाब नैशनल बैंक जिला कांगड़ा अग्रणी बैंक सलाहकार समिति की बैठक के अवसर पर उपस्थित बैंक अधिकारियों को सम्बोधित करते हुये प्रकट किये। उन्होंने बैंक अधिकारियों का आहवान किया कि वे विभिन्न स्थानों पर कैम्प लगा कर आम जनता को अपनी ऋण योजनाओं की जानकारी प्रदान करें ताकि ग्रामीण स्तर के लोग भी इन योजनाओं का लाभ उठा सकें। इस अवसर उपायुक्त ने कहा कि ऋण प्राप्त करने वाले पात्र लोगों को बार-बार बैंको के चक्कर न काटने पडें इसके लिये ऋृण प्रक्रिया सरल बनाया जाये। उन्होंने बैंक अधिकारियों को कृषि क्षेत्र, दुग्ध उत्पादन, भेड व बकरी पालन तथा मुर्गी पालन जैसे छोटे व्यवसायों हेतु योजनाओं को प्रचारित करने और व्यवसाय अपनाने वाले व्यक्तियों को उदार ऋण प्रदान करने के निर्देश दिये ताकि लोग इन क्षेत्रों में स्वारोजगार स्थापित करके अपनी आय में बढ़ौतरी कर सकें। मुख्य प्रबन्धक बीएस पठानिया ने जानकारी देते हुये कहा कि कांगड़ा जिला के बैंकों में वार्षिक ऋण योजना 2013-14 के अन्र्तगत 1505 करोड़ की लक्ष्य था जबकि इसके अन्र्तगत 1368 करोड़ वितरित किये जा चुके हैं। उन्होंने बताया कि विभिन्न बैकों के पास 13532 करोड़ जमा हैं तथा बैंको द्वारा लोगों उपलब्ध करवायें गये ऋणों में से 4098 करोड़ रूपये का ऋण शेष है । बैठक में रिजर्व बैंक के सहायक महाप्रबंधक रमेश चंद ने बताया कि भारतीय रिजर्व बैंक ने जिला में विभिन्न स्थानों पर वर्ष 2016 तक 150 नई बैंक शाखायें खोेलने के निर्देश दिये हैं तथा जिन क्षेत्रों में बैंक शाखा खोलना संभव नहीं है उन ग्रामीण क्षेत्रों में बैंकिंग कारसपोडेंट लगाने के निर्देश दिये हैं ताकि सभी लोगोें तक बैंकिंग सुविधा पहुंच सके।मुख्य अग्रणी जिला प्रबन्धक आरएस रोहिल ने मुख्यातिथि का स्वागत किया तथा बैठक सम्बन्धी विस्तृत जानकारी दी। इस अवसर पर नावार्ड के डीडीएम सुमन कुमार विभिन्न बैंकों के अधिकारियों के अलावा सम्बन्धित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)