Header ad
Header ad
Header ad

कांगड़ा हवाई अड्डे पर हुई मॉक ड्रिल

धर्मशाला,   कांगड़ा हवाई अड्डे पर किसी भी संभावित विमान दुर्घटना
की सूरत में आपातकालीन स्थिति से निपटने की तैयारियों को परखने के लिए आज
भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (भा०वि०प्रा०) के तत्वावधान में मॉक ड्रिल आयोजित की गई।
इस मॉक ड्रिल की जानकारी देते हुए भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण के निदेशक
कुलदीप कुमार शर्मा ने बताया कि अभ्यास के दौरान कांगड़ा हवाई अड्डे के एयर
टैऊफिक कन्ट्रोल को पायलट से करीब दोपहर २ बजे विमान के बाएं इंजन में आग लगने
के संकेत मिल रहे थे।संकेत मिलते ही हवाई अडडे पर पूर्ण आपातकाल घोषित करने के
बाद सभी सम्बंधित एजैंसियों को इस बारे सूचित कर दिया गया। प्राप्त जानकारी के
अनुसार जहाज में कुल ४० यात्री थे और कांगड़ा एयरपोर्ट पर उसने २ः३० बजे उतरना
था। उतरते वक्त जहाज के दुर्घटनाग्रस्त होने पर उसमें आग लग गई। अग्निशमन एवं
बचाव दल तुरन्त दुर्घटना स्थल पर पहुंच गई एवं आग बुझाने तथा बचाव कार्य आरम्भ
कर दिया गया। इस दौरान कांगड़ा के अग्निशमन केन्द्र के अधिकारी एवं नागरिक
अस्पताल के चिकित्सक भी एयरपोर्ट पर पहुंच गए।
शर्मा ने बताया कि घायल यात्रियों को मौके पर ही प्राथमिक चिकित्सा देकर उनकी
गंभीरता को देखते हुए अग्रिम उपचार के लिए अस्पताल भेज दिया गया।साधारण रूप से
घायल यात्रियों को सम्बन्धित एयरलाईन को सौंप दिया गया। मृतकों के शव आवश्यक
कानूनी कार्रवाई के लिए कांगड़ा पुलिस को सौंप दिया गया।उन्होंने बताया कि इस
दुर्घटना में तीन यात्रियों की मौत हो गई जबकि १० व्यक्तियों को गंभीर रूप, १५
व्यक्तियों को मध्यम तथा शेष १२ को सामान्य चोटें आई।सामान्य रूप से घायल
व्यक्तियों को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई। जहाज का ईंजन पूरी तरह
क्षतिग्रस्त हो गया।
निदेशक ने बताया कि सम्बंधित एजैंसियों की पूर्ण सहभागिता से राहत एवं बचाव
कार्यों को प्रभावी ढंग से सम्पन्न करने के बाद समस्त बचाव प्रणाली की समीक्षा
की गई। इस अभ्यास में कांगड़ा के एसडीएम अजीत भारद्वाज, डीएसपी अशोक वर्मा,
हवाई अडडा सुरक्षा प्रभारी स्वर्ण सिंह सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी
उपस्थित थे।

Share

About The Author

Related posts

Leave a Reply

 Click this button or press Ctrl+G to toggle between multilang and English

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Solve it * *