October 22, 2017

एक साथ जलीं चार चिताएं

रिकांगपिओ —  सांगला के समीप हादसे के दूसरे दिन मातम छाया रहा। शुक्रवार को लोग घटना स्थल पर पंहुच कर घंटों इस दर्दनाक स्थल को देखते रहे, जहां एक साथ 23 लोग काल का ग्राम बने। कई मृतकों के परिजन घटना स्थल पर पंहुच कर बौद्ध लामाओं द्वारा पूजा अर्चना करने में लगे रहे। किन्नौर जिला के पूर्वनी गांव के रहने वाले चार लोगों की चिताएं एक साथ जलीं। बताया जाता है कि ये सभी लोग सांगला में अपने रिश्तेदार के यहां एक समारोह में भाग लेकर लौट रहे थे। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सांगला में जहां सभी घायलों को प्राथमिक उपचार दिया गया, उस केंद्र में दूसरे दिन सन्नाटा परसा रहा। उधर, सरकार ने घायलों को हवाई मार्ग से आईजीएमसी शिमला पंहुचने में तत्परता दिखाई। गुरुवार को ही प्रशासन के माध्यम से सरकार ने सभी घायलों को 25-25 हजार रुपए की फौरी राहत प्रदान की तथा मृतकों के परिजनों को डेढ़-डेढ़ लाख रुपए की सहायता प्रदान करनी शुरू की। उधर, मुख्यमंत्री ने भी उन सभी 17 लोगों को फ्री उपचार देने की घोषणा की है। इस दर्दनाक घटना के घायलों को सड़क मार्ग तक पहुंचा कर अस्पताल तक पंहुचाने में स्थानीय लोगों का भारी सहयोग रहा। लोगों ने अपनी जान की परवाह किए बिना खतरनाक पहाडि़यों से नीचे उतर कर घायलों व शवों को सड़क मार्ग तक पहुंचाया। होमगार्ड, पुलिस तथा जेपी कंपनी का भी सहयोग रहा।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *