October 22, 2017

इंदौर की कंपनी पर ऊना के दर्जनों लोगों ने रूपये ऐंठने का आरोप उपायुक्त संदीप कदम से मिल इंसाफ की गुहार लगाई,उपायुक्त ने मामले की जांच एडीएम को सौंपी

ऊना, 11 दिसंबर ( राजीव भनोट) इंदौर की एक कंपनी पर ऊना के दर्जनों लोगों ने रूपये ऐंठने का आरोप लगाया है। गुस्साए लोग मंगलवार को इस संदर्भ में उपायुक्त संदीप कदम से मिले और इंसाफ की गुहार लगाई। उपायुक्त ने लोगों को न्याय दिलाने का भरोसा दिलाते हुए मामले की जांच एडीएम राकेश शर्मा को सौंप दी है। ठगी का शिकार लोगों ने मंगलवार को बहडाला में एकत्रित हुए और कंपनी के खिलाफ जमकर गुबार निकाला। उक्त कंपनी को ऊना में लांच करवाने वाले जलग्रां निवासी राजेश कुमार ने बताया कि रोपड़, नालागढ़ व डेरा बस्सी के तीन लोगों ने एक ब्रांड नेम पर किरयाना स्टोर खुलवाने के नाम पर उनसे 15 लाख रूपए सिक्योरिटी के रूप में लिए और 11 माह का एग्रीमेंट किया। स्टोर के नियमित 150 ग्राहक बनाए गए। जिनसे छह हजार रूपये प्रति व्यक्ति के हिसाब से कंपनी द्वारा वसूल किया गया। नियमित ग्राहकों को खरीद में छूट का प्रावधान देते हुए अग्रिम रूप से छह-छह हजार रूपये भी जमा करवा लिए, जो राशि करीब छह लाख बनती है। लेकिन अरसा बीतने के बाद भी लोगों को सामान नहीं मिल पाया। राजेश कुमार ने बताया कि कंपनी की ढुलमुल नीति को देखते हुए उन्होंने अपने रूपये वापिस मांगे और कंपनी ने एक चैक उन्हें थमा दिया। लेकिन यह चैक भी बाऊंस हो गया, जिसकी शिकायत पुलिस में की गई है। कंपनी की ठगी का शिकार हुए अन्य लोगों में राजकुमार, अमरजीत, सुलोचना, यशवंत, दासराम, दर्शना, कुसूम, पुष्पा देवी, भला राम, शंकुतला, भोली, निर्मला, नीलम, बबीता, ज्योति, तृष्ला, चंचला, दर्शना, रोशनी, कांता, निर्मला समेत करीब दो दर्जन लोग मंगलवार को उपायुक्त संदीप कदम से मिले। इन लोगों ने कंपनी के पदाधिकारियों के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करने की गुहार भी लगाई। इन लोगों ने बताया कि कंपनी अब अपने ब्रांड का नाम बदलकर एक नाम से ऊना में काम करने लगी है। उधर डीएसपी अंजनि जसवाल कहते हैं कि मामले की जानकारी पुलिस को है और पुलिस इसकी जांच में जुटी है और कानून के मुताबिक ही कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *